October 4, 2022

राजस्थान में चल रही उठापटक सुलझाने प्रियंका गांधी आईं आगे

राजस्थान का संकट सुलझाने के लिए अब प्रियंका गांधी सामने आई हैं। प्रियंका खुद सचिन पायलट से बात कर रही हैं। हालांकि अंदर से कुछ ऐसी ख़बरें भी आ रही हैं कि राहुल गांधी ने भी सचिन पायलट को मनाने की कोशिश की थी लेकिन बात नहीं बनी।

It's everyone's collective duty to help, protect health workers ...
काँग्रेस महासचिव प्रियंका गांघी

इस बीच कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले कैमरे के सामने मुख्यमत्री अशोक गहलोत ने शक्ति प्रदर्शन किया है। दावा किया जा रहा है कि 102 विधायक बैठक में मौजूद हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मीडिया के कैमरे के सामने विक्ट्री साइन बनाकर दिखाते नजर आए।

बैठक में सचिन पायलट के अलावा दो और मंत्री नहीं पहुंचे हैं। 18 विधायक और सचिन पायलट को मिलाकर तीन मंत्री इस बैठक में पहुंचे। इस बैठक में सचिन पायलट खेमे के माने जाने वाले 5-6 विधायक पहुंचे। लेकिन मंत्री रमेश मीणा और एक और मंत्री नहीं पहुंचे थे।

सूत्रों का कहना है कि प्रियंका ने खुद सोनिया गांधी से इस मामले को सुलझाने की अनुमति मांगी थी। प्रियंका ने महाराष्ट्र से कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य राजीव सातव को अपना दूत बनाकर सचिन पायलट से बातचीत करने के लिए जयपुर भेजा। दूसरी तरफ अशोक गहलोत ने भी लगभग 90 विधायकों को अपने साथ बताया है। अब यदि प्रियंका गांधी वाड्रा की वजह से राजस्थान का सत्ता संकट सुलझ गया तो यह तय है कि कांग्रेस की राष्ट्रीय राजनीति में उनका कद बढ़ जाएगा। इससे यह भी साबित होगा कि पार्टी के भीतर उनकी स्वीकार्यता राहुल गांधी से ज्यादा है।