October 4, 2022

रायसेन की बरेली उपजेल में 64 कैदी और 3 प्रहरियों की रिपोर्ट आयी कोरोना पॉजिटिव

रायसेन ज़िले की बरेली उप जेल में उस वक्त हड़कम्प मच गया जब 67 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए। सभी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। इन संक्रमित लोगो में से 64 कैदी और 3 प्रहरी शामिल हैं। सूचना मिलते ही एसडीएम बरेली, एसडीओपी तत्काल मौके पर पहुंच गए। बाद में जिले के वरिष्ठ अधिकारी भी आ गए और हालात और इंतज़ामों का जायज़ा लिया। तीनों प्रहरियों को रायसेन कोविड सेंटर रेफर कर दिया गया है। कैदियों का इलाज वहीं उपजेल में किया जा रहा है।

रायसेन ज़िले की बरेली उपजेल में कोरोना बम फट गया है। यहां स्टाफ और कैदियों के एक साथ कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद जेल प्रशासन परेशान हो उठा है। जेल में कोरोना वायरस कैसे और कहां से पहुंचा इसकी अब पड़ताल की जा रही है। उप जेल में कोरोना फैलने की खबर सुनते ही अफसर दौड़े-दौड़े पहुंचे। फौरन ही प्रहरियों को इलाज के लिए रायसेन भेज दिया गया। जबकि कैदियों की तादाद ज़्यादा होने के कारण उनका वहीं इलाज किया जा रहा है। बरेली उप जेल को सेनेटाइज कर वहां कोविड सेंटर बना दिया गया है। सभी कैदियों का इलाज जेल में ही किया जाएगा।

MP Coronavirus News Updates; Home Minister Narottam Mishra On ...

कैसे फैला संक्रमण

इतनी बड़ी संख्या में कैदी कोरोना से संक्रमित कैसे हुए इसका पता लगाया जा रहा है। अनुमान है कि बाहर से आये नये कैदियों से ये वायरस जेल में पहुंचा। SDM बरेली ब्रजेंद्र रावत ने कहा इस मामले में किसकी लापरवाही है और कैसे कोरोना पहुंचा कई बिन्दुओं पर इस पूरे मामले पर जांच की जा रही है।

सर्दी जुखाम होने पर भेजे सैंपल

जेल में कई कैदियो को सर्दी जुखाम की शिकायत थी। जिस के बाद जेल अफसर एसडीएम और डॉक्टरों की टीम ने उप जेल पहुंच कर उनकी जांच की। फिर सभी के सैम्पल लेकर कोरोना टेस्ट के लिए भेजे गए। रिपोर्ट आयी तो सबके होश उड़ गए। इनमें से 67 लोग पॉजिटिव मिले।

प्रशासन की लापरवाही

इस पूरे मामले में अब तक जेल प्रशासन की लापरवाही समझ आ रही है। पुलिस ने फरार घूम रहे और छोटे जुर्म के कई आरोपियों को भी पकड़ कर इस उप जेल में भेज दिया। ऐसे समय में जेल में अधिक कैदी होने के कारण कोरोना को लेकर सुरक्षा नही हो पायी। अंदाजा लगाया जा रहा है बाहर से आये ऐसे ही किसी कैदी से पूरी जेल संक्रमित हुई है। सूत्रों की जानकारी अनुसार बाहर से आये कैदियों का मेडिकल भी नहीं कराया गया।