October 4, 2022

पत्रकार विक्रम जोशी ने अस्पताल में तोड़ा दम

उत्तर प्रदेश पुलिस ने कुल 10 आरोपियों की लिस्ट जारी की है। इसमें से 9 आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया है।

गाजियाबाद में सरेराह अपराधियों की गोली के शिकार हुए पत्रकार विक्रम जोशी ने बुधवार (22-07-2020) को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। यशोदा अस्पताल में पत्रकार का इलाज चल रहा था। विक्रम जोशी की मौत से उनके परिजन काफी दुखी हैं। विक्रम के भांजे आशीष ने न्यूजी एजेंसी ‘ANI’ से बातचीत के क्रम में कहा कि ‘कमालुद्दीन का बेटा तथा उसके कुछ दोस्त मेरी बहन के साथ अक्सर छेड़खानी किया करते थे। उस दिन मेरी बहन का जन्मदिन था और मेरे मामा मेरी बहन के साथ आ रहे थे तब ही कमालुद्दीन के बेटे ने उनपर हमला किया और उन्हें गोली मार दी। हम अपने मामा की डेड बॉडी तब तक नहीं लेंगे जब तक की मुख्य आरोपी पकड़ा नहीं जाता।’

गाजियाबाद में बेटियों के सामने ...

पत्रकार विक्रम जोशी यहां के एक दैनिक अखबार में काम करते थे। सोमवार की रात गाजियाबाद के प्रताप विहार इलाके के माता कॉलोनी में उन्हें गोली मारी गई थी। पत्रकार को गोली मारने का एक वीडियो भी सामने आया था। वीडियो में नजर आ रहा था कि पत्रकार अपनी बाइक से जा रहे थे तब ही कुछ लोगों की भीड़ ने उनपर हमला कर दिया। पहले विक्रम जोशी के साथ मारपीट की गई और फिर बेहद करीब से एक शख्स ने उन्हें गोली मार दी। वीडियो में नजर आ रहा था कि गोली लगने के बाद विक्रम जोशी जमीन पर निढ़ाल हो गए थे।

इस मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने कुल 10 आरोपियों की लिस्ट जारी की है। इसमें से 9 आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया है। जबकि एक आरोपी अभी भी फरार बताया जा रहा है। पत्रकार विक्रम जोशी के परिवारवालों ने प्रताप विहार चौकी इंचार्ज राघवेंद्र पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। इसके बाद एसएसपी कलानिधि नैथानी ने चौकी इंचार्ज राघवेंद्र को सस्पेंड कर दिया है। साथ ही पूरे मामले की जांच क्षेत्राधिकारी प्रथम को सौंप दी गई है।

बताया जा रहा है कि पत्रकार विक्रम जोशी ने अपनी भांजी के साथ छेड़खानी का विरोध किया था। जिसके कुछ दि बाद बदमाशों ने उन्हें गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया है। गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में रवि, छोटू, मोहित, दलवीर, आकाश, योगेंद्र, अभिषेक हलका, अभिषेक मोटा और शाकिर को गिरफ्तार कर लिया है।