October 8, 2022

कांग्रेस और अशोक गहलोत को सबक सिखाने के लिए हम सही वक्त का इंतजार कर रहे थे – मायावती

  • बीएसपी चीफ ने कहा- गहलोत ने असंवैधानिक तरीके से हमारे 6 विधायकों को कांग्रेस में शामिल करवाया।
  • भाजपा विधायक मदन दिलावर ने भी बीएसपी विधायकों के मामले में सुप्रीम कोर्ट में दूसरी पिटीशन लगाई।

राजस्थान में जारी सियासी रार के बीच बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने आज राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद हमने बिना शर्त 6 विधायकों का समर्थन कांग्रेस को दिया था, लेकिन सीएम अशोक गहलोत ने असंवैधानिक रूप से उन्हें कांग्रेस में शामिल करा लिया। ऐसा वह पहले भी कर चुके हैं। यही गलत काम उन्होंने पिछले कार्यकाल में भी किया था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को सबक सिखाने के लिए बसपा कोर्ट जाने का फैसला किया है। हम इस मामले को ऐसे ही नहीं छोड़ देंगे। हम सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे।

Rajasthan Crisis: Vote Against Gehlot Govt in Assembly, BSP to 6 ...
मायावती फ़ाइल फ़ोटो

मायावती ने साथ में बसपा के चुनाव चिन्ह पर चुने गए छह विधायकों को विधानसभा सत्र के दौरान किसी भी कार्यवाही में कांग्रेस के खिलाफ वोट देने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि अगर विधायक ऐसा नहीं करते है, तो उनकी पार्टी की सदस्यता रद कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का ये कार्य संविधान की 10वीं अनुसूची के खिलाफ है। इसलिए बसपा ने 6 विधायकों को व्हिप जारी कर निर्देश दिया है कि ये सदन में कांग्रेस के खिलाफ ही मत डालेंगे। पार्टी ने यह निर्णय कांग्रेस के द्वारा बार-बार धोखा दिए जाने के कारण ही लिया है। कांग्रेस की अब सरकार रहती है या नहीं रहती है। इसके लिए पूर्ण रूप से कांग्रेस और मुख्यमंत्री गहलोत ही दोषी होंगे।

प्रियंका गांधी ने बिना नाम लिए मायावती पर निशाना साधा

ये 6 विधायक कांग्रेस में शामिल हुए थे

बीएसपी से चुनाव जीते राजेन्द्र गुढ़ा (उदयपुरवाटी, झुंझुनूं), जोगेंद्र सिंह अवाना (नदबई, भरतपुर), वाजिब अली (नगर, भरतपुर), लाखन सिंह मीणा (करौली), संदीप यादव (तिजारा, अलवर) और दीपचंद खेरिया (किशनगढ़बास, अलवर) ने सितंबर 2019 में पार्टी छोड़ दी थी।