October 2, 2022

इंदौर के प्रदीप सिंह ने यूपीएससी परीक्षा में देश में 26वीं रैंंक प्राप्त की, मध्य प्रदेश में पहली रैंक

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ने सिविल सर्विस एग्जाम 2019 का फाइनल रिजल्ट मंगलवार को घोषित कर दिया है। इसके तहत प्रोवीजनल लिस्ट भी जारी कर दी गई है। यूपीएससी ने सितंबर 2019 में सिविल सर्विसेज एग्जाम की लिखित परीक्षा ली थी। इंदौर के प्रदीप सिंह परीक्षा में देश में 26वीं रैंंक प्राप्त की है और मध्य प्रदेश में वे पहले नंबर पर हैं।

वहीं गरोठ के पूर्व नगर परिषद अध्यक्ष राजेश चौधरी के पुत्र अभिनव चौधरी ने भी यह परीक्षा पास कर ली है। अभिनव की देश में 238 वी रैंक बनी है। परीक्षा में कुल 829 उम्मीदवारों को सलेक्ट किया है जिसमें 304 उम्मीदवार जनरल कैटेगरी से, 78 आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग, 251 अन्य पिछड़ा वर्ग, 129 एससी और 67 एसटी कैटेगरी से हैं। 2020 में फरवरी-अगस्त के बीच पर्सनालिटी टेस्ट, इंटरव्यू आयोजित किए गए। 

आपको बता दें कि यूपीएससी 2019 की मुख्य परीक्षा में कुल 2304 उम्मीदवारों ने पास पर इंटरव्यू में शामिल हुए थे। इंटरव्यू 17 फरवरी, 2020 से शुरू हुए थे। लेकिन कोरोना संकट के चलते यह इंटरव्यू पोस्टपोंड हो गये थे। बाद में फिर से 20 जुलाई से 30 जुलाई तक इंटरव्यू लिये गए। और पहली बार आयोग ने उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिये विमान का किराया दिया था। जिसमें इंटरव्यू के आने जाने का विमान किराये का भुगतान शामिल था।

Indore Pradeep Singh Cracks UPSC Exam Become IAS Officer His ...
प्रदीप सिंह – फ़ाइल फ़ोटो

दरअसल कोरोना संकट के चलते सभी आवागमन की सेवाए पूरी तरह से ठप्प थी और तारीख पर आयोग में इंटरव्यू में शामिल होने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था। आखिरकार आयोग ने सभी उम्मीदवारों को हवाई सेवा का उपयोग कर शामिल होने के निर्देश दिये थे।

UPSC को देश की सबसे चुनौतिपूर्ण प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक माना जाता है। हर साल लाखों युवा सिविल सर्विस में जाने के लिये इसकी तैयारी करते हैं। स्कूल और कॉलेज के बाद अक्सर छात्रों को आईएएस और आईपीएस बनने की बात करते हैं और फिर जुट जाते हैं इस प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में। परीक्षा के परिणाम के साथ ही कई एसे नाम सामने आते है जिनको देखकर लोग आश्चर्यचकित हो जाते हैं। मध्य प्रदेश के इंदौर से प्रदीप सिंह का नाम भी सामने आया जिनके पिता आज भी पैट्रोल पंप पर नौकरी करते हैं