October 2, 2022

कांग्रेस चला रही शुद्ध के लिए युद्ध अभियान

  • मध्यप्रदेश में 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले कांग्रेस और बीजेपी की सियासत चरम पर पहुंच गई है।

मध्यप्रदेश में 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले कांग्रेस और बीजेपी की सियासत चरम पर पहुंच गई है। कांग्रेस विधायकों के बीजेपी में शामिल कराने को लेकर कांग्रेस पलटवार की मुद्गा में है। कांग्रेस का कहना है कि जिस तरह बीजेपी ने राजनीति की शुचिता को ध्वस्त कर उसे अपवित्र किया, उसी को कांग्रेस गंगाजल छिड़ककर शुद्ध करेगी। कांग्रेस नेता उपचुनाव वाले 27 विधानसभा क्षेत्रों में गंगाजल लेकर जाएंगे औऱ यहां लोगों को बताएंगे कि किस तरह बीजेपी ने कांग्रेस की चुनी हुई सरकार को एक षड़यत्र के तहत गिराया है, जिससे राजनीति अशुद्ध हुई है। इसीलिए कांग्रेस शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चला रही है।

कांग्रेस की प्रदेश उपाध्यक्ष और इस अभियान की संयोजक अर्चना जायसवाल ने बताया कि कांग्रेस के नेता उपचुनाव वालीं 27 विधानसभाओं में जाकर जनता को असलियत से रुबरू कराएगी। वो जनता को बताएंगे कि उनके क्षेत्र के विधायकों ने अपने आपको बेचकर विधानसभा की गरिमा को किस तरह अशुद्ध किया है और ये अपवित्र लोग दोबारा विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए आपके क्षेत्रों में पहुंचेंगे। उनके क्षेत्र को अपवित्र करेंगे इसलिए उसे गंगाजल छिड़कर पवित्र किया जाना जरूरी है। इसीलिए कांग्रेस उनके क्षेत्र को पवित्र करने का काम करेगी,हर हर महादेव घर-घर महादेव के बाद अब कांग्रेस ने इस नए अभियान का नाम हर हर गंगे घर घऱ गंगे दिया है।

बीजेपी ने बताया सियासी शिगूफा

बीजेपी इसे कांग्रेस का एक मात्र शिगूफा बता रही है बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता उमेश शर्मा का कहना है कि कांग्रेस पार्टी ने इस समय बहुत ही सामयिक और प्रासांगिक अभियान चलाया है। हमारे हिन्दू धर्म ये मान्यता है कि अंतिम समय व्यक्ति को गंगाजल प्रदान किया जाना चाहिए। कांग्रेस पार्टी की इस उपचुनाव में अंतिम बेला है। इसलिए उसे गंगाजल की याद आ रही है। कांग्रेस शुद्ध के लिए युद्ध के बजाय उनकी पार्टी में चल रहे आंतरिक युद्ध से पहले निपट ले फिर बात करे तो अच्छा रहेगा।

आत्ममंथन कर रही कांग्रेस

कमलनाथ सरकार गिरने के बाद कांग्रेस में आत्ममंथन का दौर जारी है और उसे उपचुनाव में उम्मीद की किरण नजर आ रही है। इसलिए पार्टी हर वो कदम उठा रही है जिससे वो जनता का दिल जीत सके चाहे वो हिन्दुत्व का मुद्दा हो या गाय, गंगाजल और राम मंदिर का मुद्दा हो सब में वो बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रही है और इसी पर बीजेपी को आपत्ति है।