October 4, 2022

क्राइम ब्रांच ने शादी के नाम पर झाँसा देने वाले गिरोह एवं युवती को पकड़ा

क्राइम ब्रांच ने शादी कराने का झांसा देकर विवाह योग्य लोगों से रुपये हड़पने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। गैंग में शामिल युवतियां रिश्ता तय होने पर बाकायदा फेरे लेकर शादी की तमाम रस्म अदा करती थीं। इसके 15 दिन बाद कथित ससुराल से जेवर रुपए लेकर चंपत हो जाती थीं। आरोपितों ने उनके फर्जी नाम,पते वाले आधार कार्ड,वोटर आईडी बनवा रखे थे। इस वजह से फरेब का शिकार बना परिवार उनकी तलाश भी नहीं कर पाता था। आरोपित युवतियों में एक चार बच्चों की मां भी शामिल है।

क्राइम ब्रांच एएसपी गोपाल धाकड़ ने बताया कि पिछले कुछ माह में चार लोगों ने शिकायत दर्ज कराई थी। उसमें बताया गया कि कुछ लोगों ने शादी के नाम पर उन्हें लड़की दिखाई पसंद आने पर लगभग एक लाख रुपये लेकर बाकायदा शादी कराई। इसके बाद दुल्हन 15 दिन में बहाने बनाकर गायब हो गई। दुल्हन और उसके रिश्तेदारों के मोबाइल फोन नंबर बंद हो गए। 

बताए गए पते भी फर्जी निकले। इस बीच पता चला कि गिरोह ने रिंकू कुशवाह नाम के युवक को लड़की दिखाने के लिए लालघाटी के पास बुलाया है। पुलिस टीम ने मौके पर निगरानी बढ़ा दी। वे लोग रिंकू को झांसे में ले पाते। इसके पहले तीन महिलाओं सहित आठ लोगों को हिरासत में ले लिया गया। उनके पास से 1 लाख 10 हजार रुपये नकद भी बरामद हुए।

इन्हें किया गया गिरफ्तार

दिनेश कुमार पांडे और तेजूलाल दोनों निवासी सीहोर, वीरेंद्र धाकड़ निवासी विदिशा, सलमान खां निवासी निशातपुरा भोपाल, विक्रम निवासी आंवलिया उज्जैन, पूजा उर्फ रिया निवासी मंडीदीप, सीमा पाटीदार और रीना उर्फ सुल्ताना निवासी तलैया भोपाल बताए गए हैं। सुल्ताना के 4 बच्चे हैं। पकड़ी गई तीनों महिलाएं अपने नाम बदलकर शादी करती थी और कुछ दिन बाद ही पैसे तथा जेवरात लेकर गायब हो जाती थी।

इस गिरोह का सरगना दिनेश कुमार पांडे बताया गया है। वह युवतियों को एक शादी के लिए कम से कम तीस हजार रुपये का भुगतान करता था। पूछताछ में पुलिस को पता चला कि एक शादी के बदले में महिलाओं को 30 हजार रुपये मिलते थे।