October 4, 2022

मध्यप्रदेश में केवल उन्हीं युवाओं को नौकरी दी जाए जो लोग एमपी बोर्ड से पढ़े हैं। – दिग्विजय सिंह

मध्यप्रदेश में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव को लेकर सियासत तेज हो गई है। कांग्रेस भाजपा सरकार के खिलाफ लगातार हमले बोल रही है। मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने कहा कि प्रदेश में बेरोजगरी बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में केवल उन्हीं युवाओं को नौकरी दी जाए जो लोग एमपी बोर्ड से 10वीं और 12वीं की परीक्षा पास हैं।

क्या कहा दिग्विजय सिंह ने?

पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने कहा- मध्यप्रदेश के बेरोजगारों की समस्या बढ़ती जा रही है। जिनके पास रोज़गार था वे भी कोरोना संकट काल में बेरोज़गार होते जा रहे हैं। कांग्रेस की मांग है कि मप्र सरकार उन्हीं को नौकरी में ले जिन्होंने 10वीं कक्षा मप्र से पास की हो जैसा कि मेरे मुख्यमंत्रित्व कार्यकाल में नियम था।

दिग्विजय सिंह ने कहा- मैंने अपने कार्यकाल में युवाओं को मदद देने के लिए मैंने एक नियम बनाया था कि 10 और 12वीं जो एमपी के लोगों को ही शासकीय नौकरी देंगे। लेकिन भाजपा की सरकार आते ही इस नियम को बदल दिया गया और आज भी ये नियम लागू है। मैं सरकार से मांग करता हूं कि मध्यप्रदेश में फिर से ये नियम लागू करें कि एमपी के लोगों को ही रोजगार मिले।

कमलनाथ ने भी लागू किया था नियम

बता दें कि मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी स्थानीय रोजगार को लेकर बड़ा बयान दिया था। मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद उन्होंने कहा था- ‘मध्यप्रदेश में ऐसे उद्योगों को सरकारी छूट दी जाएगी जिनमें 70 प्रतिशत नौकरी मध्यप्रदेश के लोगों को दी जाएगी। बिहार, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के लोगों के कारण मध्य प्रदेश में स्थानीय लोगों को नौकरी नहीं मिल पाती है।’

जमकर हुआ था विरोध

कमलनाथ के इस बयान के बाद मध्यप्रदेश में भाजपा और कई युवा संगठनों ने सरकार के इस बयान पर आपत्ति भी जताई थी।