October 4, 2022

सतना, रीवा, पन्ना, डिंडौरी, कटनी में बारिश से सड़कें लबालब, नदी-नाले उफान पर

महाकोशल-विंध्य में सावन तो करीब-करीब सूखा ही बीत गया, लेकिन भादों में लगी सावन सी झड़ी अपना असर दिखाने में लगी है। अंचल के अधिकांश जिलों में कहीं रिमझिम तो कहीं जोरदार बारिश का दौर लगातार बना हुआ है। सतना, रीवा, पन्ना, डिंडौरी, कटनी में तो बारिश अब आफत बन गई है।

सड़कें पानी से लबालब तो नदी-नाले उफान पर।

बुधवार को बारिश से सतना के नागौद का थाना परिसर लबालब हो गया। यहां रखे वाहन पानी में डूब गए। शहडोल, अनूपपुर, उमरिया, मंडला, बालाघाट, सिवनी, नरसिंहपुर, दमोह, सीधी व सिंगरौली जिलों में दिनभर रिमझिम बारिश होती रही।

सतना में शहर से लेकर गांव तक पानी ही पानी

जिले में सुबह से शुरू हुई बारिश से शहर से लेकर गांव पूरी तरह जलमग्न नजर आए। नदी-नालों के ऊफान पर आने से जिला मुख्यालय का उप नगरों व ग्रामीण इलाकों से संपर्क टूट गया। कहीं घर गिर गए तो कहीं दुकानें बह गईं।

सड़क पर घुटनों तक पानी होने से हाइवे में जाम लगा रहा। बिजली भी चली गई। निचले इलाके पानी में डूब गए। कई ग्रामीण इलाकों में इस कदर पानी भरा कि लोग गांव छोड़ अपनों के यहां चले गए। मौसम विभाग ने हाई अलर्ट घोषित किया है। इसके अलावा सतना से मैहर व अमरपाटन मार्ग में भी पुल-पुलिया डूबने की वजह से सड़क मार्ग ठप हो गया।

झमाझम बारिश से रीवा तरबतर

तेज बारिश से शहर के कई हिस्से जलमग्न हो गए। घरों में पानी भर गया। लगातार बारिश से शहर के बीच से बहने वाली बीहर नदी का जलस्तर बढ़ गया। जिले के तराई अंचल में बहने वाली टमस नदी का जलस्तर बढ़ जाने से प्रशासन अलर्ट हो गया है। पन्ना में किलकिला नदी में बाढ़ बुधवार सुबह से ही तेज बारिश देर शाम तक होती रही। बारिश से किलकिला नदी में बाढ़ आ गई। आसपास के गांवों को अलर्ट किया गया है।