October 5, 2022

सिंधिया के भाजपा में आते ही प्रभात झा ने बदले सुर, पहले कहते थे भू-माफिया अब बता रहे समर्थक

  • प्रभात झा ने कहा कि सिंधिया के बीजेपी में आने के कारण ही प्रदेश में पार्टी की सरकार बनी है।

सिंधिया के भाजपा में आते ही प्रभात झा के सुर बदलने लगे हैं। कल तक प्रभात झा ज्योतिरादित्य सिंधिया को सबसे बड़ा भूमाफिया बताते थे, अब वे सिंधिया को समर्थक बताने लगे हैं। सिंधिया से सियासी अदावत के सवाल पर प्रभात झा ने कहा कि सिंधिया पहले हमारे विरोधी थे, भाजपा में आने के बाद अब वो समर्थक हो गए हैं।

कल जो हमारा विरोधी था आज समर्थक है

मंगलवार को ग्वालियर पहुंचे भाजपा उपाध्यक्ष प्रभात झा ने  अपने निवास पर चुनिंदा पत्रकारों से चर्चा की। उन्होंने दावा किया कि उपचुनाव की कमान भाजपा के सभी वरिष्ठ नेता मिलकर संभालेंगे और ग्वालियर अंचल की सभी 16 सीटों पर भाजपा जीत दर्ज करेगी। भाजपा में ज्योतिरादित्य सिंधिया के शामिल होने पर प्रभात झा बोले ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में आए हैं तो स्वागत है। उनके आने से प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है। राजनीति में कल जो हमारा विरोधी था आज समर्थक है, और आज का विरोधी कल का समर्थक होता है, इसलिए उसका स्वागत करते हैं।

राम रोम-रोम में बसे हैं

कांग्रेस से भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं द्वारा राम मंदिर मुद्दे के बाद प्रोफ़ाइल बदलने के सवाल पर भाजपा उपाध्यक्ष बोले कि राम के सभी भक्त हैं। उन्होंने बताया कि राम मंदिर शिलान्यास का स्वागत करने पर उन्होंने पीसीसी चीफ कमल नाथ को बधाई दी थी। राम रोम-रोम में बसे हैं। ऐसा कोई घर नहीं है जिसमें सियाराम की तस्वीर ना हो।

हम जीआई टैग की लड़ाई लड़ रहे हैं

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के एमपी को जीआई टैग देने की मांग के सवाल पर प्रभात झा ने कहा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जीआई टैग की लड़ाई लड़ रहे हैं।

उन्होंने इसके लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और केंद्र सरकार से भी बात की है। सरकारी नौकरियों में प्रदेश के युवाओं को प्राथमिकता देने की मुख्यमंत्री की घोषणा के सवाल पर प्रभात झा बोले युवाओं की दृष्टि से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की यह बहुत बड़ी घोषणा है।

सरकारी नौकरियों में अब प्रदेश के युवा ही आएंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री की इस घोषणा का स्वागत करते हुए प्रदेश के युवाओं को बधाई दी कि मध्य प्रदेश की संवेदनशील सरकार ने युवाओं की चिंता की।