October 2, 2022

मौसम विभाग ने फिर प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश चेतावनी जारी की

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अंतर्गत भारत मौसम विज्ञान विभाग के भोपाल केंद्र द्वारा बताया गया है कि मध्यप्रदेश में झमाझम बारिश का दौर तेजी से जारी है, नदी-नाले उफान पर आ गए है। लगातार बारिश से सड़कों और इलाके में जल भराव की स्थिति बनने लगी है, बारिश के इस कहर के कारण बरगी और बाणसागर बांध के गेट खोले गए है। मौसम विभाग ने आज एक बार फिर प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश चेतावनी जारी की है। विभाग द्वारा येलो-ऑरेंज अलर्ट एक साथ जारी किया गया है। 

बंगाल की खाड़ी से मध्यप्रदेश आए बादल गुरुवार से मूसलाधार बरसेंगे

मौसम विभाग की माने तो बंगाल की खाड़ी में बुधवार को फिर एक और कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इस सिस्टम का असर प्रदेश में कम पड़ेगा, लेकिन इसका असर गुरुवार से ज्यादा होने से राज्य में अगले दो तीन दिनों तक कई स्थानों पर अति भारी बारिश की संभावना है।

इस सिस्टम के बनने से प्रदेश भर में एक सप्ताह तक हल्की से मध्यम बारिश का सिलसिला बना रह सकता है। मानसून ट्रफ आज की तारीख में उत्तर प्रदेश के आगरा से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक जा रही है। यह ट्रफ लाइन कल तक और नीचे आने की संभावना है। 

नर्मदा का जलस्तर बढ़ा

पिछले 24 घंटे की बात करे तो जबलपुर के 13 बरगी गेट खुलने के बाद नरसिंहपुर जिले में नर्मदा का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। जबलपुर नरसिंहपुर स्टेट हाइवे क्रमांक 22 पर पुलिस ने वाहनों की आवाजाही बंद कराने कार्रवाई शुरू कर दी है, हालांकि बरगी के गेट खुलने की सूचना आने के बाद जिले में नर्मदा से लगे गांवों में प्रशासन द्वारा सुरक्षित रहने मुनादी कराई गई थी। 

कई जिलों में हाई अलर्ट, बाणसागर बांध के गेट खुले

सिवनी, मंडला, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, सीहोर, खरगोन और कटनी जिलों को हाईअलर्ट कर दिया गया है। वही शहडोल लगातार हो रही बारिश को देखते हुए बाणसागर के 16 गेट डेढ़ मीटर खोल दिए गए हैं। 17 सितंबर को सुबह 7 बजे 6 गेट आधा मीटर खोले गए थे, उसी दिन रात को 8 बजे 8 गेट खोले गए और अब 16 गेट खोल दिए गए हैं, जिसके बाद उत्तर प्रदेश और बिहार की नदियों में बाणसागर बांध का पानी पहुंच रहा है, इससे दोनों राज्यों में बाढ़ जैसी स्थिति बन रही है।