October 2, 2022

मध्यप्रदेश में जीएसटी से होने वाली आय में 58% गिरावट

  • गत वर्ष से 10 करोड़ कम, 1484 करोड़ ही कलेक्शन।

कोरोना काल में अप्रैल से जून के बीच पूरे देश में वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी में 23.9 फीसदी की नकारात्मक वृद्धि दर दर्ज की गई। इस दौरान मप्र में भी जीएसटी कलेक्शन केवल 42 फीसदी दर्ज होकर 58 फीसदी गिरावट में रहा। लेकिन जुलाई-अगस्त के जीएसटी कलेक्शन के आंकड़े बता रहे हैं कि अब मप्र में कारोबार फिर से पटरी पर आ रहा है। जुलाई और अगस्त का कुल जीएसटी कलेक्शन बीते साल से केवल 3 फीसदी कम है।

पिछले साल इन दो महीनों में जीएसटी कलेक्शन 3296 करोड़ हुआ था, जो इस बार अब तक 3208 करोड़ हो गया है। अगस्त 2019 में जीएसटी कलेक्शन मप्र में 1494 करोड़ हुआ था जो इस बार केवल 10 करोड़ कम होकर 1484 करोड़ पर पहुंच गया।

जीएसटी कलेक्शन में अंतर 

अप्रैल से अगस्त के बीच वर्ष 2019 में कुल आय 8521 करोड़ रुपए हुई थी, जो इस बार अप्रैल-अगस्त के दौरान 5434 करोड़ हुई। अप्रैल से जून के बीच पहली तिमाही में आय 5225 करोड़ होना थी जो केवल 2226 करोड़ हुई।

अब सुधार : जुलाई 2019 में जीएसटी कलेक्शन 1802 करोड़ था जो जुलाई 2020 में 1724 करोड़ हुआ। अगस्त 2019 में जीएसटी कलेक्शन 1494 करोड़ हुआ था जो अगस्त 2020 में 1484 करोड़ हुआ।

इस तरह हुआ आय में अंतर

गत वर्ष अप्रैल से अगस्त के बीच मप्र शासन को वाणिज्यिक कर विभाग में वैट, जीएसटी, पेट्रोल-डीजल आदि के मिलाकर 14817 करोड़ रुपए मिले थे, जो इस बार अप्रैल से अगस्त के दौरान 12224 करोड़ रहे।