October 2, 2022

कोरोना से लगातार हो रही मौतों को लेकर कांग्रेस ने जताया विरोध, टीआई को ज्ञापन सौंपा

  • जिला अस्पताल के कोविड वार्ड में लगातार हो रही कोरोना संक्रमितों की मौत के मामले को कांग्रेस ने गम्भीरता से लिया है।

जिला अस्पताल के कोविड वार्ड में लगातार हो रही कोरोना संक्रमितों की मौत के मामले को कांग्रेस ने गम्भीरता से लिया है। संक्रमितों की जान के साथ खुलेआम हो रहे खिलवाड़ पर कांग्रेस ने आक्रोश व्यक्त किया है। कांग्रेसियों ने देर रात कोतवाली थाना पहुंचकर टीआई को ज्ञापन सौंपा और जिम्मेदारों के खिलाफ हत्या का प्रकरण पंजीबद्ध करने की मांग की है।

जुन्नारदेव विधायक सुनील उइके और पांढुर्ना विधायक निलेश उइके के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कांग्रेस के पदाधिकारी और कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए कोतवाली थाना परिसर के अंदर पहुंचे। टीआइ मनीषराज सिंह भदौरिया को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में सुनील उइके ने उल्लेख किया है कि अर्चना पन्द्रे ने उन्हें सोशल मीडिया पर एक संदेश भेजा था जिसमें उन्होंने बताया कि वे स्वयं कोरोना संक्रमित है तथा उनकी मां और पिता भी कोरोना से संक्रमित पाए गए थे, उनकी मां जिला अस्पताल के आइसीयू वार्ड में भर्ती थी तथा उन्हें न तो उचित उइला मिला न ही उन्हें आइसीयू में पर्याप्त व्यवस्थाएं उपलब्ध कराई गई। रात तीन बजे अर्चना पन्दे्र की मां का अधिक प्यास लगी थी, लेकिन कोई पानी देने वाला नहीं था।

आरोप है कि रात 3.30 से 4 बजे के बीच अर्चना ने सिविल सर्जन गोगिया को फोन करके किसी व्यक्ति के माध्यम से पानी पहुंचाने की व्यवस्था बनाने के लिए कहा, लेकिन अस्पताल की लचर व्यवस्था के कारण उनकी मां तक पानी नहीं पहुंच पाया, जिससे उनकी मौत हो गई। ज्ञापन में उल्लेख किया है कि इसे कोरोना से सामान्य मौत की श्रेणी में नहीं गिना जा सकता, यह पूर्ण रूप से अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही और उस वक्त ड्यूटी पर तैनात जिम्मेदार डॉक्टर एवं अन्य स्टॉफ की लापरवाही है जो एक हत्या की श्रेणी में आता है। अर्चना के पिता को भी आइसीयू में भर्ती कराया गया है।

बताया जा रहा है कि उनके बाजू में भर्ती एक कोरोना संक्रमित के वेंटीलेटर का पाइप निकल गया था जिसे अभी तक जोड़ा नहीं गया है। ऑक्सीजन नहीं मिलने के कारण उसकी भी मौत लापरवाही के कारण मौत हो गई। सुनील उइके ने प्रशासन को चेतावनी दी है कि ड्यूटी के दौरान जिन भी व्यक्तियों ने लापरवाही बरती है उनके खिलाफ हत्या का प्रकरण तत्काल दर्ज नहीं किया गया तो जल्द ही उग्र आंदोलन किया जाएगा।