October 2, 2022

जमीन के बदले मुआवजे की मांग लेकर किसानाें ने घेरी कलेक्टाेरेट, कांग्रेस विधायक ने किया शीर्षासन

  • विरोध में नारे लगाने से नाराज हुए कलेक्टर, बाद में भी नहीं लिया किसानों से ज्ञापन
  • सौ से अधिक किसानों का 2 घंटे प्रदर्शन, जमीन के चार गुना मुआवजे की कर रहे हैं मांग

अटल प्रोग्रेस-वे में जमीन के बदले चार गुना मुआवजे की मांग लेकर किसानाें ने सोमवार को कलेक्टोरेट का घेराव कर दिया। यहां पर किसानाें के संग पहुंचे कांग्रेस विधायक बाबूलाल जंडेल से ज्ञापन लेने के लिए एसडीएम पहुंचे। लेकिन किसानाें ने एसडीएम रुपेश उपाध्याय को ज्ञापन देने से यह कहते हुए मना कर दिया कि कलेक्टर राकेश श्रीवास्तव ही आएं। इसके आधा घंटे तक उन्होंने कलेक्टर के आने का इंतजार किया और जब कलेक्टर नहीं आए तो किसानों ने धरना देते हुए कलेक्टोरेट परिसर में ही अर्धनग्न प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस बीच कांग्रेस विधायक जंडेल ने प्रदर्शन करते हुए शीर्षासन लगा दिया।

सोमवार को अटल प्रोग्रेस-वे किसान संघर्ष समिति के बैनरतले करीब एक सैकड़ा से अधिक किसानों ने करीब 2 घंटे तक प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के बीच अर्धनग्न हालत में विरोध स्वरुप कांग्रेस विधायक बाबू जंडेल ने शीर्षासन भी किया और भाजपा सरकार व प्रशासन को जमकर आड़े हाथों लिया। यहां कलेक्टर के न आने से नाराज होकर किसानों ने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन के 1 घंटे बाद जब कलेक्टर आए तो उनके खिलाफ हो रही नारेबाजी से नाराज हो गए और फिर वह वापस लौट गए। इसके बाद उन्होंने किसानों का ज्ञापन ही नहीं लिया।

विधायक के साथ कलेक्टोरेट परिसर में अर्धनग्न प्रदर्शन करते किसान संघर्ष समिति के पदाधिकारी व किसान।
विधायक के साथ कलेक्टोरेट परिसर में अर्धनग्न प्रदर्शन करते किसान संघर्ष समिति के पदाधिकारी व किसान।

कलेक्टर ज्ञापन लेने नहीं आए तो परिसर में ही ज्ञापन चस्पा कर लौटे किसान

जब कलेक्टर किसानों का ज्ञापन लेने नही आए तो प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। करीब दो घंटे के इस प्रदर्शन में एसडीएम, एएसपी व एडीएम ने किसानों का ज्ञापन देने के लिए मनाने के प्रयास भी किए। लेकिन किसान नही मानें और कलेक्टर को बीच में आकर ज्ञापन लेने की मांग करने लगे। इसके बाद किसानों ने कलेक्टोरेट परिसर में ही ज्ञापन पढ़ा और इसके बाद उसे दीवार चस्पा कर दिया। विरोध के बीच पुलिस फोर्स को भी बुलाया गया, लेकिन जब तक फोर्स आया तब तक प्रदर्शन ही खत्म हो चुका था।