October 4, 2022

पेपर के लिए सीट पर तीन घंटे तक इंतजार करना पड़ा, भूखे-प्यासे परिजन फुटपाथ पर बैठकर इंतजार को मजबूर

  • कुल 26 परीक्षा केंद्र बनाए गए, परीक्षा केंद्र तक पहुंचाने के लिए बसें लगाई गईं।
  • कोरोनावायरस के कारण एक परीक्षा केंद्र पर सिर्फ 300 परीक्षार्थी पेपर दे रहे।

भोपाल में आज राष्ट्रीय पात्रता और प्रवेश परीक्षा (नीट) में परीक्षार्थियों को तीन घंटे तक पहले बुला लिया गया। ऐसे में छात्रों को पेपर के लिए सीट पर तीन घंटे तक बैठकर इंतजार करना पड़ा। वहीं, भूखे-प्यासे परिजन फुटपाथ पर बैठकर इंतजार को मजबूर हुए। हालांकि छात्रों को परीक्षा केंद्र तक बसों से पहुंचाने की सुविधा को लेकर इस बार स्थिति बेहतर रही।

भोपाल में करीब 10 हजार छात्र शामिल हो रहे हैं। पेपर दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक है। इसके लिए छात्रों को समय से 11.20 बजे तक सेंटर पर रिपोर्ट करना अनिवार्य किया गया। छात्रों को उनके प्रवेश कार्ड पर रिपोर्टिंग टाइम दिया गया था। ऐसे में कई छात्रों को पेपर के समय के बराबर ही केंद्र के अंदर इंतजार करना पड़ा।

अरेरा हिल्स स्थित पर परीक्षा केंद्र के बाहर छात्र केंद्र में प्रवेश का इंतजार करते हुए।
अरेरा हिल्स स्थित पर परीक्षा केंद्र के बाहर छात्र केंद्र में प्रवेश का इंतजार करते हुए।

कैंपस के बाहर किसी तरह की व्यवस्था नहीं होने से परिजनों को परेशानी रही। राजगढ़ से आए मांगीलाल अपनी बेटी को पेपर दिलाने आए हैं। उन्होंने कहा कि बस की सुविधा तो सरकार ने दी, लेकिन सेंटर में पेपर के तीन घंटे पहले बुलाना कष्टकारी है। बेटी को पेपर देने के लिए 3 घंटे अंदर इंतजार करना पड़ा। हमें यहां फुटपाथ पर 6 घंटे तक रहना पड़ रहा है। इसमें भोपाल के करीब 8 हजार और करीब 2 हजार छात्र दूसरे जिलों के परीक्षा देंगे। कुल 26 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। टाइम 90-90 के ग्रुप में बुलाया गया है। इसी कारण कई छात्रों को काफी पहने बुला लिया गया।

19 शहरों के लिए सेंटर बनाए

भोपाल में परीक्षा देने के लिए भोपाल के बाहर के जिलों सतना, होशंगाबाद, हरदा, दमोह, टीकमगढ़, रायसेन, अशोकनगर, सिंगरौली, रीवा, सीधी, छतरपुर, विदिशा, बालाघाट, राजगढ़, गुना, सीहोर, शाजापुर और आगर मालवा लगभग 2000 विद्यार्थी पहुंचे। प्रशासन ने उनके नि:शुल्क परिवहन की व्यवस्था की है।