October 4, 2022

सीएम शिवराज का सुरक्षा घेरा तोड़ लड़की मंच पर चढ़ी और मदद माँगी, उमा भारती ने उठाए सवाल

मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले की मुंगावली विधानसभा सीट पर चुनावी सभा के दौरान अचानक कुछ ऐसा हुआ जो अप्रत्याशित था। एक लड़की मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए मंच पर चढ़ गई। वह शिवराज सिंह के पैरों में गिरकर बिलख बिलखकर रोने लगी। लड़की की आंखें खराब है। वह मदद मांग रही थी। मुख्यमंत्री ने मंच से ऐलान किया कि लड़की के इलाज में खर्चा मैं करूंगा। मंच पर मौजूद पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने अशोकनगर कलेक्टर की सक्रियता पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि ऐसे मामले तभी सामने आते हैं जब नीचे का प्रशासन लापरवाह हो।

सीएम शिवराज सिंह के मंच पर अचानक आई लड़की पैरों में गिर पड़ी

मामला मुंगावली का है, जहां पर सोमवार को आमसभा करने शिवराज सिंह चौहान पहुंचे थे। मंच पर अचानक मुंगावली निवासी दीपा केवट मंच पर रोती बिलखती पहुंच गईं और अपनी दास्तान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सुनाई। उसने कहा कि उसके घर में आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है कि वह इलाज करा सकें। इसके बाद मुख्यमंत्री ने उसे आश्वासन दिया। इस दौरान लड़की मुख्यमंत्री के पैरों पर गिर कर अपनी उपचार के लिए गुहार लगाती देखी गई।

उमा भारती ने अशोकनगर कलेक्टर की सक्रियता पर सवाल उठाया

मुंगावली की लड़की दीपा केवट को अपनी आंखों की बीमारी से परेशान है। आंखों के इलाज को लेकर सीएम की सभा मे रोती हुई पहुंच गई। इस संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने कहा कि जब नीचे का सिस्टम खराब होता है तो इसी तरह से ऊपर की ओर मदद मांगने आना पड़ता है। इसलिए उस सिस्टम को सही होना जरूरी है, जिससे ऐसा फिर कभी न हो। 

नागरिकों को पेयजल, शिक्षा और चिकित्सा उपलब्ध कराना सरकार की संवैधानिक जिम्मेदारी है 

यहां बताना जरूरी है कि नागरिकों को निशुल्क शिक्षा और निशुल्क चिकित्सा उपलब्ध कराना सरकार की जिम्मेदारी है। यदि क्षेत्र के स्कूल और अस्पताल अच्छे नहीं है तो इसका एक ही तात्पर्य होता है कि सरकार अच्छी नहीं है। मध्य प्रदेश में 15 साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार रही। बावजूद इसके दीपक केवट के इलाज का खर्चा पिछली बार भाजपा कार्यकर्ताओं ने उठाया था और इस बार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व्यक्तिगत रूप से वहन करेंगे।