October 5, 2022

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा – दिल्ली की तर्ज पर इंदौर में भी गरीबों के लिए एक अस्थाई अस्पताल बनाना चाहिए

  • रेसीडेंसी कोठी पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने पहुंचे कांग्रेसियों को प्रशासन द्वारा भीतर जाने से रोकने पर भड़के कांग्रेसी।
  • सांवेर में चुनावी सभाएं और कलश यात्रा पर हमला बोला, कहा – राजनीति के लिए बच्चों तक को शोभायात्रा में शामिल कर रहे।

रेसीडेंसी कोठी पर बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करने पहुंचे कांग्रेसियों को प्रशासन द्वारा रोक दिया गया। कांग्रेसियों की यहां पर होने वाली पीसी पर रोक लगाते हुए प्रशासन ने यहां तैयारियों में लगे कार्यकर्ताओं को भी रेसीडेंसी से बाहर कर दिया। इससे गुस्साए कांग्रेसियों ने पहले प्रशासन के समक्ष विरोध जताया फिर रेसीडेंसी कोठी के बाहर ही मीडिया से बात करते हुए शासन-प्रशासन को जमकर खरीखोटी सुनाई। पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने आरोप लगाया कि ऐसा कर सरकार हमारी आवाज दबाना चाहती है। रेसीडेंसी कोठी में तो सभी जनप्रतिनिधि चर्चा करते हैं, फिर हमें क्यों रोका गया। उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन तो कह रही है हम तो इंदौर और प्रदेशवासियों को मारना चाहते हैं। क्योंकि शासन-प्रशासन के सानिध्य में शोभा यात्रा निकल रही है। 100 रुपए की साड़ी के नाम पर भीड़ लगाकर मटके बांटे जा रहे हैं।

प्रशासन ने कहा कि विदेशों से आए लोगों के कारण फैला संक्रमण, पर एक हजार विदेशी इन्हें अब तक नहीं मिले

पटवारी ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि कलेक्टर ने कहा था कि तीन हजार लोग विदेशों से आए, जिनसे कोरोना फैला। लेकिन तीन हजार में से एक हजार विदेशों से आए लोग तो अब तक नहीं मिले हैं। प्रशासन का काम अच्छी बुरी खबर बताना नहीं, अच्छी व्यवस्था देना है। इंदौर के साथ जो पाप कर रहे हैं, इसे इनकी सजा देनी ही होगी। अस्पताल की लूट और सरकारी की छूट इंदौरी अच्छे से जानते हैं। प्रशासन ने अस्पतालों को लूटने की छूट दे दी गई है।

दीपावली तक 50 हजार से ज्यादा मरीज होंगे

कांग्रेस का अनुमान है कि कोरोना का कहर और अधिक बढ़ने वाला है। अस्पताल में जगह नहीं मिलेगी। दीपावली तक 50 हजार मरीज हो जाएंगे। हम कहना चाहते हैं कि प्रशासन उस हिसाब से अपनी तैयारी करे। एक बार फिर से आप युद्ध स्तर पर काम करो। मेघदूत और चिड़ियाघर खोलने की बजाय हमारा ध्यान इस महामारी से निपटने पर होना चाहिए। सभी लोग इस बीमारी से खुद बचने की कोशिश करें, क्योंकि शासन-प्रशासन का तो कहना है कि हम तो आपको मारने पर तुले हैं। सरकार और प्रशासन यह कह रहा है कि हम प्रदेश और इंदौरवासियों को मारना चाहते हैं। क्योंकि सरकार के सानिध्य में कलश यात्रा निकल रही है, ऐसे में सरकार खुद कह रही है भीड़ बढ़ाओ और कोरोना घर ले जाओ, आखिरी में मरो।

100 रुपए की साड़ी के साथ बांट रहे कोराेना

जीतू पटवारी ने कहा कि ये लोग बीमारी में भी नफरत फैला रहे हैं। हमें रेसीडेंसी कोठी में भीतर जाने से रोक दिया गया तो हमने बाहर जमीन पर बैठकर आपसे बात कर ली। हम अहंकारी लोग नहीं हैं। सांवेर में रोज कलश यात्रा निकल रही है। भीड़ बढ़ रही है, 10 साल की बच्चियों को कहा जा रहा है कि आओ बेटा 100 रुपए की साड़ी लेकर जाना। 70 रुपए का हंडा भी लेकर जाना। साथ में कोराेना भी लेकर जाना जिससे तेरे घर के बुजुर्ग मर जाएं। प्रशासन कहती है हम भाजपा के नौकर हैं, जो वह बोलेगी हम करेंगे।