October 4, 2022

प्रदेश के कई जिलों को नहीं मिली फ़सल बीमा की राशि, कांग्रेस ने आंदोलन की चेतावनी दी

मध्य प्रदेश के किसानों को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को पिछले वर्ष की खरीफ फसल बीमा की राशि का वितरण किया। लेकिन मंदसौर, आगर मालवा, रतलाम और नीमच जिले के 4 लाख से ज्यादा किसान इस योजना के लाभ से वंचित रह गए। जिसको लेकर प्रदेश की सियासत गरमा गई है। इस पर कांग्रेस ने शिवराज सरकार को किसान विरोधी बताया है। कांग्रेस ने कहा कि अगर 20 सितंबर तक लाभ से वंचित किसानों को राशि का भुगतान नहीं किया गया तो पार्टी आंदोलन करेगी।

कांग्रेस नेता महेंद्र गुर्जर ने शिवराज सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए जल्द से जल्द किसानों को 2019 की खरीफ फसल की बीमा राशि के भुगतान की मांग की। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि उपचुनाव में सियासी फायदा लेने के लिए शिवराज सरकार जानबूझ के बीमा राशि के भुगतान में देरी कर रही है। ताकि चुनाव होने पर उसका क्रेडिट लिया जा सके।

कांग्रेस नेता महेंद्र गुर्जर ने कहा कि शिवराज सरकार किसानों का भुगतान ना होने की वजह बीमा कंपनियों और जिम्मेदार अधिकारियों को बता रही है। साथ ही सरकार कह रही है कि तकनीकी समस्या की वजह से भुगतान में देरी हो रही है। सरकार के इस रवैए से बाढ़ और कोरोना की वजह से नुकसान झेल रहे किसानों में आक्रोश है।

वहीं, कांग्रेस के आरोपों को मंदसौर से बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने बेतुका बताया. उन्होंने कहा कि उनकी वरिष्ठ अधिकारियों से बात हुई है। 3 से 4 दिनों में शेष किसानों के खातों में बीमा राशि का भुगतान कर दिया जाएगा। इसको लेकर उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार में देर है, लेकिन अंधेर नहीं है।

मामले में मंदसौर जिले के डिप्टी डायरेक्टर कृषि अर्जुन सिंह का कहना है कि मंदसौर, नीमच, रतलाम और आगर मालवा में जिस कंपनी ने किसानों की फसल का बीमा किया है। उनके यहां तकनीकी त्रुटि होने की वजह से किसानों का भुगतान नहीं किया जा सका है। जल्द ही तकनीकी त्रुटि को दूर कर सभी किसानों के खाते में राशि भेज दी जाएगी।

आपको बता दें कि आगर मालवा के 53328 किसानों के खाते मे 93.60 करोड़, मंदसौर के 134409 किसानों के खाते में 281.60 करोड़, नीमच के 76429 किसानों के खाते में  223 करोड़, रतलाम के 100268 किसानों के खाते में 282.80 करोड़ की बीमा राशि का भुगतान होना है।