October 2, 2022

मध्य प्रदेश विधानसभा का एक दिनी विशेष सत्र शुरू, संसदीय कार्य मंत्री ने अध्यादेशों को पटल पर रखा

मध्य प्रदेश विधानसभा का एक दिनी विशेष सत्र जारी है, सत्र की शुरुआत में दिवंगतों को श्रद्धांजलि देने के बाद पांच मिनट के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी गई। इसके बाद संसदीय कार्य मंत्री ने अध्यादेशों/पत्रों को विधानसभा के पटल पर रखा। सामयिक अध्यक्ष द्वारा विधानसभा सदस्यता से त्याग पत्र दे चुके सदस्यों की सूचना सदन को दी गई। सत्र शुरू होने से पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष कमल नाथ ने सामयिक अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा से मुलाकात की।

इस बार कोरोना संक्रमण से बचाव के मापदंडों का पालन करने के लिए केवल 61 विधायकों के लिए सदन में बैठने के इंतजाम किए गए हैं। इनमें मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष सहित भाजपा के 32, कांग्रेस के 22 और बसपा के दो, सपा के एक व चारों निर्दलीय विधायकों के नाम से सीट का आवंटन किया गया है। शेष 141 विधायक जिला एनआइसी कार्यालयों के जरिए कार्यवाही में ऑनलाइन हिस्सा ले रहे हैं।

61 सदस्यों के बैठने की उचित व्यवस्था

सदन में बैठने वाले पक्ष-विपक्ष सदस्यों की पहले 58 नामों की सूची दी गई थी लेकिन बाद में रविवार को बहुजन समाज पार्टी के एक सदस्य और तीन निर्दलीय विधायकों के नामों को जोड़ा गया। अब कुल मिलाकर सदन में 61 सदस्यों के बैठने की उचित व्यवस्था बनाई गई है।

44 सदस्य कोरोना संक्रमित

बता दें कि अब तक मध्यप्रदेश विधानसभा सदन के 44 सदस्य कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। सोमवार को होने वाले एक दिवसीय सत्र में बीते दिनों आए छह अध्यादेश रखे जाएंगे। इस सत्र में वर्चुएल और वास्तविक दोनों तरीके से सदस्य विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा ले सकेंगे।

सीमित संख्या में सदस्यों को बुलाया गया – रामेश्वर शर्मा

मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने बताया कि सदन में सीमित संख्या में सदस्यों को बुलाया गया है और अन्य सदस्यों के लिए डिजिटल माध्यम से जुड़ने की तैयारी की गई है। शर्मा ने बताया कि इसके लिए हर जिले में राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र के कार्यालयों में व्यवस्था की गई है।

शर्मा ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि सत्र की सभी व्यवस्थाएं कोरोना प्रोटोकॉल के अनुसार हो। उन्होंने अधिकारियों से यह भी कहा है विधानसभा में प्रवेश करने से पहले मास्क और सैनिटाइजर का इस्तेमाल सुनिश्चित करें। इस सत्र में बजट पास किया जाना है।