April 14, 2024

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने हाथरस में उत्तरप्रदेश की बीजेपी सरकार के तौर-तरीकों पर भी प्रश्नचिन्ह खड़े किए

वरिष्ठ कांग्रेस नेता व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को गांधी जयंती के मौके पर राजधानी भोपाल स्थित गांधी भवन परिसर में आयोजित ‘भाईचारा बचाओ, संविधान बचाओ, देश बचाओ कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लेते हुए उन्हें गांधी के विचारों का सबसे बड़ा विरोधी स्वरूप बताया। सिंह ने कहा कि राजघाट पर पीएम द्वारा जाकर फूल चढ़ाना बेहद हास्यास्पद और विरोधाभास है।

सिंह ने कहा, ‘मुझे बेहद हैरानी होती है कि आज बीजेपी के लोग कहते हैं कि एक हो जाओ हिन्दू धर्म खतरे है। अरे, मुसलमानों के 450-500 वर्षों के साम्राज्य में जब हिंदू धर्म को कुछ नहीं हुआ, डेढ़ सौ सालों के ईसाइयों के राज में जब हिन्दू धर्म का कुछ नहीं बिगड़ा तो आज क्या होगा? आप जब इतिहास को देखेंगे तो पता चलेगा कि मुस्लिम कट्टरपंथी संगठन और हिन्दू कट्टर संगठनों का गठन एक ही समय में हुआ और यही लोग देश के विभाजन के कारण बनें जिसमें लाखों लोगों की जान गई।’

गौ-हत्या के समर्थक थे सावरकर

पूर्व मुख्यमंत्री ने इस दौरान कहा कि सावरकर जैसे लोगों को सनातनी परंपरा से कोई लेना देना नहीं था। उन्होंने खुद लिखा है कि वह गौ-हत्या के समर्थक हैं विरोधी नहीं हैं। आज इतिहास को बदलने का प्रयास किया जा रहा है। नेहरू और गांधी से संबंधित चीजों को अलग तरीके से पेश किया जा रहा है ताकि उनकी नकारात्मक छवि गढ़ी जा सके।

मोदी ने बनाया आपदा को अवसर

दिग्विजय सिंह ने अपने संबोधन में पीएम मोदी के आपदा को अवसर बनाने वाले बयान पर तंज कसते हुए कहा कि आज जब देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है तब मोदी सरकार ने अपने पूंजीपति मित्रों को फायदा दिलाने के लिए तीन काला कानून पारित करवाया। उन्होंने आगे कहा, ‘कोरोना संकट के इस दौर में जब सबसे जरूरी वस्तु ऑक्सिजन है तब उसकी कालाबाजारी की जा रही है और लोगों को लूटा जा रहा है। साढ़े चार से पांच हजार में एक ऑक्सिजन सिलिंडर मिल रही है।’ 

मीडिया के कार्यशैली पर भी उठाए सवाल

कांग्रेस नेता सिंह ने कहा कि मोदी ने पहले सत्ता पर कब्जा किया, उसके बाद नौकशाही पर कब्जा किया, फिर न्यायपालिका पर कब्जा किया और अब बॉलीवुड पर भी कब्जा करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने मीडिया पर सवाल खड़ा करते हुए कहा, ‘बाबरी विध्वंस में सभी आरोपी बरी कर दिए गए, किसान सड़कों पर हैं, मजदूर भूखे मर रहे हैं, बेटियों के साथ बलात्कार हो रहा है, दलितों के साथ अत्याचार हो रहा है, लेकिन मीडिया में इन बातों पर चर्चा नहीं है। मीडिया पर बस इस बात की चर्चा है कि कौन सी एक्ट्रेस कौन सी ड्रग्स लेती है।’

निर्भया मामले में पीड़िता को कांग्रेस सरकार ने सिंगापुर भेजा

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने हाथरस में उत्तरप्रदेश की बीजेपी सरकार के तौर-तरीकों पर भी प्रश्नचिन्ह खड़े किए हैं। उन्होंने कहा, ‘जब निर्भया के साथ हैवानियत की घटना हुई, पूरा देश आक्रोशित था, तब की यूपीए सरकार में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने तुरंत उसे इलाज के लिए सिंगापुर भेजा। जब निर्भया की मौत हुई तब तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी परिजनों के साथ एयरपोर्ट पहुंचे। पूरी सरकार पीड़िता के परिजनों के साथ खड़ी थी। लेकिन बीजेपी सरकार आज क्या कर रही है? योगी आदित्यनाथ जिस मठ के महंत हैं, आज उसी मठ के अपने गुरु के आदर्शों के खिलाफ कार्य कर रहे हैं।

About Author