February 26, 2024

राजधानी भोपाल में प्लाज्मा डोनेट करने आगे नहीं आ रहे लोग, अब तक केवल 250 लोगों ने ही कराया एंटी बॉडी टेस्ट

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना के अब तक लगभग 20 हज़ार मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से लगभग 15 हज़ार मरीज़ ठीक हो चुके हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि कोरोना को हराकर स्वस्थ हुए मरीज़ न सिर्फ अपना एंटी बॉडी टेस्ट कराने से बच रहे हैं, बल्कि दोबारा कोरोना की चपेट में आने के डर से प्लाज़्मा डोनेट करने से भी कतरा रहे हैं।  

राजधानी के हमीदिया अस्पताल की प्लाज़्मा रजिस्ट्रेशन रिपोर्ट बताती है कि अस्पताल में अब तक केवल 250 लोगों ने ही एंटी बॉडी टेस्ट कराया है। रिपोर्ट के अनुसार इनमें से 185 लोगों में कोरोना के प्रति एंटी बॉडी पाई गई हैं। लेकिन इन 185 लोगों में से अब तक केवल 105 लोगों ने ही प्लाज़्मा डोनेट किया है। ज़्यादातर लोगों को कोरोना से दोबारा संक्रमित होने का डर सता रहा है।  

प्लाज़्मा डोनेट करने वालों में 44 CRPF के जवान, 22 डॉक्टर

हमीदिया अस्पताल की रिपोर्ट बताती है कि प्लाज़्मा डोनेट करने वाले 105 लोगों में 44 सीआरपीएफ के जवान हैं। इसके अलावा 22 लोग पेशे से डॉक्टर हैं। इस लिहाज़ से केवल 39 आम लोगों ने ही प्लाज़्मा डोनेट किया है। अस्पताल के ब्लड बैंक के प्रभारी डॉ यूएम शर्मा ने हिंदी के एक प्रमुख अखबार दैनिक भास्कर को बताया है कि जिन लोगों ने प्लाज़्मा डोनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है, वे लोग भी अस्पताल में प्लाज़्मा डोनेट करने के लिए नहीं आ रहे हैं। अधिकारी और अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मचारियों के प्रेरित करने के बाद भी लोग प्लाज़्मा डोनेट करने अस्पताल नहीं पहुँच रहे हैं। अस्पताल के कर्मचारियों का कहना है कि फोन करने पर लोग उठा नहीं रहे हैं और जो उठा लेते हैं वे प्लाज़्मा डोनेट करने से सीधे तौर पर मना कर देते हैं।

About Author