April 21, 2024

सिंधिया के कट्टर समर्थक मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर सीएम शिवराज के पैरों में गिरे, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कट्टर समर्थक समझे जाने वाले मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का सीएम शिवराज के पैरों में गिरने का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि पहले वे मंच के पीछे की तरफ सीएम शिवराज के पैरों में गिरे। इस पर वहां मौजूद जनता बोली, दिखा नहीं, तो वे कैमरे के सामने फिर से मुख्यमंत्री के चरणों में गिर गए।

दरअसल, मध्य प्रदेश कैबिनेट में ऊर्जा मंत्री और ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी प्रत्याशी प्रद्युम्न सिंह तोमर के समर्थन में सीएम शिवराज रविवार को प्रचार करने आए थे। इस दौरान बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए तोमर ने कहा कि मैने कांग्रेस इसलिए छोड़ी क्योंकि वहां जनप्रतिनिधियों का सम्मान नहीं किया जाता है। इसके बाद जब शिवराज सभा को संबोधित कर रहे थे तो तोमर हाथ जोड़े खड़े रहे। इसी दौरान सीएम ने उनकी तारीफ कर दी और वह जाकर सीएम के पैरों में गिर गए।

सिंधिया समर्थक तोमर को शिवराज को पैरों में गिरते देख वहां मौजूद लोग भी हैरान हो गए। दिलचस्प बात यह है कि वहां मौजूद बीजेपी कार्यकर्ता भी तोमर पर चुटकी लेते हुए चिल्लाने लगे कि दिखा नहीं। इसके बाद वह दुबारा सीएम के पैरों में गिर गए। दरअसल, तोमर जब पहली बार पैरों में गिरे थे, तब सीएम पोडियम पर थे। जिससे मंच के सामने बैठे कार्यकर्ता इसे ठीक नहीं देख पाए। बता दें कि पहले तोमर सिर्फ सिंधिया के पैरों में गिरते थे। यह पहली बार है जब वे किसी अन्य नेता के पैरों में गिरे हैं। 

हार का डर, पैरों में सर

इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसके साथ लोग हैशटैग दे रहे हैं  ‘हार का डर, पैरों में सर’। आम लोगों के साथ-साथ इस वीडियो को साझा करके कांग्रेस नेता भी खूब मजे ले रहे हैं। कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने इसे शेयर करते हुए लिखा, ‘पहले पीछे पैर छूना सर लगाकर, फिर सामने आना, फिर मैं बुलाऊँगा, फिर सर रख के पैर छूना, फिर मैं गले लगाऊंगा, तुम आँखें गीली करना, नही तो सीन बिगड़ जाएगा “शिवराज जी, गलत लाइन में आ गए, बेस्ट एक्टर का अवार्ड तो घर पे दे जाते लोग।’

जीतू पटवारी ने लिखा, ‘घनघोर चापलूसी से लोकतंत्र की हत्या का अपराध कम न होगा सज़ा ज़रूर मिलेगी कितना भी ध्यान भटकाने की कोशिश करो सिंधिया, शिवराज जनता पूछ रही है मेरा वोट क्यों बेचा और क्यों ख़रीदा? क्यों ग़द्दारी की?’

About Author