November 29, 2022

कांग्रेस ने जारी किया वचन पत्र जिसमें पुनः 100 यूनिट तक के बिजली खर्च पर देना होगा 100 रूपये बिल

  • कमलनाथ सरकार ने सरल बिल याेजना का नाम बदलकर रखा था इंदिरा गृह ज्याेति याेजना।

कमलनाथ की 15 महीनों की सरकार में 100 यूनिट बिजली बिल के खर्चे को कम कर के 100 रुपये कर दिया गया था। जिससे जिले में कुल 1 लाख 99 हजार 552 घरेलू बिजली उपभाेक्ताओं में से 90 हजार 512 को याेजना का लाभ मिला। इस योजना को शिवराज सरकार के आते ही बंद कर दिया गया। जिसके बाद 100 यूनिट का बिल हजारों रुपये तक आने लगा। बिजली बिल को लेकर कमलनाथ ने अपने जारी वचन पत्र में इसका उल्लेख करते हुए लिखा है कि सरकार आते ही इस योजना का पुनः आरम्भ कर दिया जायेगा।

सब्सिडी वाले बिजली के बिल में अलग से दिया गया था काॅलम 

बिजली बिल के फार्मेट में काेई परिवर्तन नहीं किया गया था । सामान्य बिजली बिल ही उपभाेक्ता काे दिए जा रहे थे लेकिन सब्सिडी वाले बिजली बिल में राज्य शासन द्वारा देय सब्सिडी की लाइन लिखी आ रही थी। कंपनी ने उपभाेक्ताओं की सुविधा के लिए इंदिरा गृह ज्याेति याेजना लाल रंग की सील भी लगाई थी, जिससे बिजली बिल अलग से पहचाना जा सके। 

ऐसे समझा जा सकता है बिजली के बिल को 

इंदिरा योजना के तहत यदि 100 यूनिट का बिजली बिल 485 रुपए का आया ताे इसमें से उपभाेक्ता काे 100 रुपए ही जमा करने होते थे। शेष 385 रुपए शासन की ओर से कंपनी काे मिल रहा था। लेकिन अगर बिजली उपभाेक्ता 100 यूनिट से ज्यादा बिजली खपत करता है ताे उसे 100 यूनिट की सब्सिडी ताे मिलेगी, लेकिन उससे ऊपर जलाई गई यूनिट का बिल उपभाेक्ताओं काे ही जमा करना हाेगा। 

याेजना में सिंगल फेस कनेक्शन

याेजना के तहत सिंगल फेस कनेक्शन हाेना चाहिए। यह कनेक्शन 1 किलाे वाॅट बिजली का हाेता है। कंपनी के ट्रैरिफ 50 यूनिट तक 3 रुपए 85 पैसे और 51 से 100 यूनिट तक 4 रुपए 70 पैसे, 101 से 300 यूनिट तक 6 रुपए तक टैरिफ प्लान है। बिजली बिल में फिक्स चार्ज भी जाेड़े जाते हैं।

योजना से पहले बिजली के चार्ज

इंदिरा गृह ज्योति योजना से पहले मध्य प्रदेश में 100 यूनिट बिजली के लिए 634 रुपये देने पड़ते थे। 150 यूनिट बिजली का बिल 918 रुपये था। योजना लागू होने पर सरकार 100 यूनिट की खपत पर 534 रुपये सब्सिडी देती है. Indira Grah Jyoti Yojana के तहत आने वाले यूजर्स के घर का बिल अलग रंग का आता है।

Bijali Bill