November 28, 2022

शिवराज सिंह ने सांची में कहा ‘मैं कमीना हूं’

सांची में डाक्टर प्रभुराम चौधरी के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। शिवराज सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ को सेठ और खुद को तंज़ भरे लहजे में कमीना बताया। कांग्रेस सरकार पर किसानों का कर्जा नहीं माफ करने, फसल बीमा के लिए किसानों की लिस्ट केंद्र सरकार को नहीं भेजने का आरोप लगाया। सीएम शिवराज सिंह ने आरोप लगाया कि केंद्र द्वारा किसान सम्मान निधि के लिए किसानों के नाम तक तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने नहीं भेजे थे।

केंद्र की बीजेपी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने किसानों के खाते में 6 हजार रुपए की राशि भेजी है। पीसीसी चीफ कमलनाथ को सेठ कहते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने केंद्र को लिस्ट तक नहीं भेजी, जिससे प्रदेश के गरीब किसानों को पैसे मिल पाते। मुख्यमंत्री ने कहा कि चौथी बार मुख्यमंत्री बनने पर उन्होंने किसानों की सम्माननिधि में 4 हजार की बढ़ोतरी की जिसके बाद किसानों को अब 10 हजार रुपए मिलने लगे हैं। गरीबों को पक्के मकान और घरों तक पाइप से पानी सप्लाई का वादा दोहराया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सभा को संबोधित करते हुए पीसीसी चीफ कमलनाथ पर जमकर हमला बोला। कांग्रेस द्वारा चुनावी सभाओं में दिए बयानों पर मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि ‘कमलनाथ आए दिन नए-नए आरोप लगा रहे हैं, नए-नए नामों संबोधित कर रहे हैं।‘ उन्होंने कहा कि कभी कमलनाथ नारियल लेकर चलते वाला कहते हैं तो कभी उनके साथी भूखा-नंगा और कभी कमीना जैसे शब्दों का उपयोग करते हैं। इसका उत्तर देते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सभा में कई बार कहा कि “मैं कमीना हूं” इसलिए किसानों की सम्माननिधि बढ़ाई, मैं कमीना हूं इसलिए लाखों गरीबों को आवास मिले, मैं कमीना हूं इसलिए संबल योजना का लाभ गरीबों को मिल रहा है।

शिवराज सिंह चौहान ने ये तंज़ दरअसल कांग्रेस की जनसभा में आचार्य प्रमोद कृष्णम के भाषण के जवाब में किया, जिन्होंने अपने भाषण में उन पर काफी तीखे हमले किए थे और उनकी तुलना मारीच, कंस और शकुनि जैसे पौराणिक मामाओं से की थी।