December 10, 2022

मप्र में उपचुनाव की तैयारी को लेकर कमलनाथ ने ली बैठक

भोपाल- पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ उपचुनाव की तैयारी को लेकर भोपाल में आज बड़ी बैठक कर रहे हैं। बैठक में प्रदेश प्रभारी मुकुल वासनिक के अलावा पूर्व मंत्री सुरेश पचौरी सहित कई विधायक मौजूद हैं। इस दौरान उम्मीदवारों का चयन और चुनाव की रणनीति पर चर्चा हो रही है। बैठक में बुरहानपुर से निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा ने खंडवा लोकसभा सीट से अपनी पत्नी के लिए दावेदारी कर दी है। शेरा ने कहा- उम्मीदवार का चयन करने के लिए सर्वे को आधार बनाया जाए। बता दें कि अपनी इस परंपरागत सीट पर पूर्व मंत्री अरुण यादव सक्रिय हैं। कोरोना के चलते एक सांसद और तीन विधायकों के निधन के बाद मध्य प्रदेश के खंडवा लोकसभा और निवाड़ी पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है।

कमलनाथ बयान दे चुके हैं कि अरुण यादव ने अभी तक चुनाव लड़ने की मंशा से अवगत नहीं कराया है। खंडवा लोकसभा सीट के अलावा 3 विधानसभा सीट के लिए उम्मीदवार का चयन करने के लिए पार्टी सर्वे करा रही है। बैठक में शामिल होने से पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया ने कहा है कि उनके बेटे विक्रांत (प्रदेश अध्यक्ष युवक कांग्रेस) ने जोबट से चुनाव लड़ने की कोई दावेदारी पेश नहीं की है। विक्रांत का कहना है कि मेरी कोई दावेदारी नहीं है, लेकिन युवाओं को मौका देने के लिए वे प्रदेश अध्यक्ष से बात करेंगे।

बृजेंद्र सिंह के निधन ने के बाद खाली हुई है पृथ्वीपुर सीट

पार्टी सूत्रों ने बताया कि पूर्व मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर के निधन के बाद खाली हुई पृथ्वीपुर सीट से उनके बेटे नितेंद्र को टिकट मिलना लगभग तय है। नितिन इस बैठक में शामिल भी हुए। इसी तरह रैगांव से दावेदारों की स्थिति फिलहाल स्पष्ट नहीं है। सतना के जिला अध्यक्ष सहित अन्य पदाधिकारियों से कमलनाथ बात कर रहे हैं।

बता दें कि खंडवा से भाजपा सांसद नंदकुमार सिंह चौहान, निवाड़ी पृथ्वीपुर से कांग्रेस विधायक बृजेंद्र प्रताप सिंह, जोबट से कांग्रेस विधायक कलावती भूरिया और रैगांव से भाजपा विधायक जुगल किशोर बागरी का कोरोना से निधन हो गया। अब लोकसभा के साथ इन 3 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की तैयारी तैयारियां प्रारंभ हो गई हैं।

कमलनाथ बोले- हवाबाजी की राजनीति अब नहीं चलेगी

बैठक में कमलनाथ ने कहा कि अब हवाबाजी की राजनीति नहीं चलेगी। ऐसे नेताओं के कारण ही कांग्रेस चुनाव हारती है। पहले गांव में एक व्यक्ति जाकर कांग्रेस को वोट देने की अपील करता था, तो वोट मिल जाते थे, लेकिन अब राजनीतिक परिस्थितियां बदल गई हैं, अब किसी के कहने पर वोट नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि जब तक मंडल से लेकर सेक्टर तक को मजबूत नहीं किया जाएगा, तब तक चुनाव नहीं जीत सकते। जो ज्यादा गाड़ियों के साथ ताकत बताने की कोशिश करता है, वह उतने ही बड़े अंतर से हारता है। हम हमेशा आखिरी 3 दिन में चुनाव हारते हैं, इस पर मंथन चाहिए।