November 29, 2022

मप्र का मौसम- अगले 24 घंटों में ग्वालियर, चंबल, भोपाल और उज्जैन में बारिश से राहत नहीं

दक्षिणी उत्तर प्रदेश में लो प्रेशर एरिया के सक्रिय होने से मध्यप्रदेश में तेज बारिश हो रही है। जिसके कारण प्रदेश के कई जिलें तरबतर हो गए. सबसे ज्यादा ग्वालियर चंबल इलाकों में बारिश होने से पार्वती, कूनो, क्वारी और सिंध नदी उफान पर हैं, जिससे यहां बाढ़ आ गई है। अगले 24 घंटों में भी ग्वालियर, चंबल, भोपाल और उज्जैन बारिश से राहत की उम्मीद नहीं है।

राजधानी में 10 दिन से घने बादल छाए हुए हैं। लेकिन बारिश रिमझिम ही हो रही है। रविवार को ऐसा ही हुआ। बादलों की ऊंचाई सिर्फ 150 मीटर थी, फिर भी सुबह से शाम 5:30 बजे तक सिर्फ 1.2 मिमी बारिश दर्ज की गई। दिन का तापमान 25.2 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 4 डिग्री कम रहा।

वहीं, रीवा जिले में 4 से 6 इंच बारिश रिकॉर्ड होने से बीहर बैराज के 18 और बकिया के 12 गेट खोलने से तीन हजार क्यूसेक पानी जवा पहुंच गया। इससे टमस नदी का जलस्तर खतरे के निशान के पास पहुंचने से 2 दर्जन गांवों का रास्ता बंद हो गया और त्योंथर तहसील के ऊसर गांव से 300 लोगों को निकालकर सुरक्षित जगह भेजा गया।

घुचियारी गांव में कच्चा मकान गिरने से मां-बेटे सहित चार की मौत हो गई। इधर, पार्वती और सिंध में उफान से भिंड और श्योपुर के कई गांव बाढ़ में घिर गए हैं। वहीं सिंगरौली में सामंता कंपनी की बाउन्ड्री वॉल गिरने से एक मजदूर के दो बच्चों की मौत हो गई। बतादें कि प्रदेश में अब तक सामान्य कोटे से 5% ज्यादा बारिश हो चुकी है। 36 शहरों-कस्बों में रविवार को 6 इंच तक बारिश हुई।

यहां अलर्ट : मौसम विभाग ने सोमवार के लिए 10 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है। इनमें ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, दतिया, श्योपुर, मुरैना, भिंड आिद शामिल हैं। जबकि भोपाल, सागर सहित 16 जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विभाग ने 24 घंटों के दौरान इन इलाकों में भारी बारिश होने की अलर्ट जारी किया है। इसके साथ ही छतरपुर, टीकमगढ़, सागर, निवाड़ी और होशंगाबाद में भी बारिश होगी। पिछले 24 घंटे में ग्वालियर-चंबल संभाग में ही सबसे ज्यादा बारिश हुई है।

शिवपुरी के बैराड़ में 11 इंच, पोहरी में 8 इंच, नरवर में 7 इंच, पिपरसमा में 5.5 इंच, बदरवास में 5.5 इंच, कोलारस में 5 इंच, शहर में 4.4 इंच, श्योपुर कलां के विजयपुर में 7, कराहल में 5 इंच, शहर में 4.5 इंच, दतिया शहर में 5.5 इंच, अशोकनगर के चंदेरी में 5 इंच, ईसागढ़ में 4 इंच, मुरैना के सबलगढ़ में 5 इंच, गुना शहर में 4 इंच पानी गिरा।

मौसम एक्सपर्ट के अनुसार वर्तमान में दक्षिणी उप्र के साथ ही कम दबाव का क्षेत्र हरियाणा पर भी बना हुआ है। इन दोनों से होकर टर्फ लाइन गुजरते हुए बंगाल की खाड़ी तक जा रही है। इस कारण मप्र के उत्तरी हिस्से ग्वालियर, चंबल, भोपाल, उज्जैन, सागर, रीवा संभाग में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। हालांकि इंदौर को रिमझिम से ही संतोष करना पड़ेगा।