November 29, 2022

MP में तेजी से बढ़ रहे हैं संक्रमित, 15 दिन में मिले 567 कोरोना संक्रमित

जनवरी में आई कोरोना की तीसरी लहर के बाद मरीज भले ही कम हो गए हों, लेकिन संक्रमण अभी भी अपना असर दिखा रहा है। प्रदेश में पिछले तीन दिन से लगातार 40 से ज्यादा नए मरीज मिल रहे हैं। दो हफ्तों के आंकड़ों को देखें तो 567 नए संक्रमित मरीज बढ़े हैं। प्रदेश में 248 एक्टिव केस हैं। इनमें सबसे ज्यादा 58 एक्टिव केस इंदौर में हैं। भोपाल में 51, रायसेन में 28, होशंगाबाद में 13, गुना में 11, उज्जैन में 9, ग्वालियर-जबलपुर में 8, मुरैना में 7, बैतूल में 6, मंडला-सीहोर में 5-5, डिंडौरी-कटनी में 4-4, दतिया, बालाघाट, हरदा, निवाड़ी, राजगढ़, शिवपुरी में तीन-तीन, आगर, धार, खरगोन, नरसिंहपुर, नीमच में दो-दो और बुरहानपुर, छतरपुर और सागर में एक-एक एक्टिव केस हैं।

मौतों को लेकर राहत
टीकाकरण के बाद से कोरोना के गंभीर संक्रमण का असर कम हो रहा है। यही वजह है कि तीसरी लहर के दौरान कम मौतें हुईं। पिछले तीन महीनों में सिर्फ 3 मौतें हुई हैं। 19 मार्च को 57 वर्षीय अंसार की मंदसौर जिला अस्पताल में मौत हुई थी। 23 अप्रैल को जबलपुर की 77 वर्षीय गुलाब बाई की जबलपुर मेडिकल कॉलेज में मौत हुई। ठीक एक महीने बाद 23 मई को इंदौर के 80 साल के सौभाग्य सीपी की मौत दर्ज की गई हालांकि वे दूसरे राज्य के अस्पताल में भर्ती थे। दो दिन पहले जबलपुर के दौलत रामचंदानी की जबलपुर जिला अस्पताल में कोरोना से मौत हुई है। हालांकि सवा तीन महीने से भोपाल में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। 22 फरवरी को एम्स भोपाल में 77 वर्षीय रामेश्वर प्रसाद की 17 दिन वेंटिलेटर पर रहने के बाद मौत हो गई थी।