July 3, 2022

कमलनाथ ने खोला हॉर्स ट्रेडिंग का राज़, बोले- एक MLA ने कहा था 5 करोड़ मिले, तीन और मिलेंगे

भोपाल-प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ बुधवार रात इंदौर में मीडिया से रुबरू हुए। इस दौरान उन्होंने प्रदेश की भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने बातों ही बातों में उनकी सरकार गिराने के लिए की गई हॉर्स ट्रेडिंग से जुड़ा किस्सा साझा किया।

कमलनाथ ने कहा कि विधायकों की खरीद-फरोख्त के लिए बेंगलुरु मीटिंग के दो माह पहले एक विधायक मुझसे मिले थे और कहा कि मुझे 5 करोड़ रुपए मिले हैं। गाडी में रखे हैं। अभी तीन इंस्टॉलमेंट में और मिलेंगे। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा सरकार गिराने के सवाल पर उन्होंने यह बात ऑफ द रिकॉर्ड कही। इसके अलावा उन्होंने कोरोना काल से संबंधित सीएम शिवराज से जुड़ा एक किस्सा भी सुनाया।

मुझे लगा हवाबाजी कर रहा है

बकौल कमलनाथ, मैंने उक्त विधायक से कहा कि मौज करो। मैंने कहा किस लिए दिए तो विधायक जी कुछ नहीं बोले। बस इतना कहा कि तीन इंस्टालमेंट में और पैसा मिलेगा। विधायक जी बोले कि मैं रुपए साथ लाया हूं, मेरी गाडी में हैं। मैंने सोचा ऐसे ही हवाबाजी कर रहा है।

येदुरप्पा से की थी बात

कमलनाथ ने कहा, मुझे तो पता था कि यह सौदा बेंगलुरु में चल रहा है। ये (बागी विधायक) जब बेंगलुरु में थे, तो मैंने येदुरप्पा से बात की। वे मेरे दोस्त हैं। मैंने कहा कि हमारे विधायकों को बंद करके रखा है। मैं बेंगलुरु आ रहा हूं, तो उन्होंने कहा कि किसी विधायक को बंद नहीं किया है। विधायकों ने ही मुझे लिखकर दिया है कि हमें पुलिस प्रोटेक्शन दो।

इंदौर कैश का हब

कमलनाथ बोले, मुझे पता है विधायक बेंगलुरु में रुपए ले नहीं सकते। इंदौर तब कैश का हब था।यहां कई बड़े हवाला कारोबारी हैं। वे (बागी विधायक) तो मुझे होटल से फोन करते थे और बताते थे कि ये लोग कहते हैं कांग्रेस छोड़ दो, ये ले लो, वो ले लो और साइन कर दो। मैं मिनिट टू मिनिट जानता था। एक मुख्यमंत्री होने के नाते मैं भी सौदा कर सकता था। लेकिन मैं सौदे नहीं करता। मेरे पास सौ और विधायक हैं। मैं सौदे की राजनीति नहीं करता, कुर्सी जाए तो जाए।

कोरोना में शिवराज सिंह ने मित्रवत मांगी थी मदद

कमलनाथ ने कोरोना काल से संबंधित एक किस्सा साझा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की तारीफ की। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में देश में छिंदवाडा इकलौता जिला था, जहां कहीं भी एक मिनिट भी ऑक्सीजन की कमी नहीं आई। मैंने यह प्रबंध पहले ही कर लिए थे। मैंने रेमडेसिविर का नाम नहीं सुना था। मैंने पता किया कि बनाता कौन है, वहां बात की। बताया गया कि रेमडेसिविर पोर्ट पर है एक्सपोर्ट हो रहे हैं। उन्हीं दिनों शिवराजजी मुझे फोन कर कहा कि ऑक्सीजन टैंकर की कमी है। आप मदद कीजिए। मैंने कहा मैं प्रदेश की मदद जरूर करूंगा। मैं उनकी प्रशंसा करता हूं कि उन्होंने मुझे यह बात कही। मैंने फिर उक्त कंपनी के कर्ताधर्ता से बात की। फिर शिवराज जी के कहने पर पीएस ने मुझसे बात की। मैंने कहा ऑक्सीजन बनाता कौन है, तो उन्होंने मुझे कंपनी की जानकारी दी। मैंने भी इंटरनेट से जानकारी निकाली। उक्त कंपनी का चेयरमैन फॉरेन कॉलोबरेटर्स से जुड़ा था। मैंने उनसे बात की। उन्होंने कहा आपने (कमलनाथ ने) मेरी फॉरेन इन्वेस्टमेंट में मदद की थी। इस पर मैंने कहा कि ऑक्सीजन टैंकर चाहिए तो उन्होंने कहा कितने चाहिए मिल जाएंगे, यह बात पूछिए शिवराज जी से। कोरोना काल में मेरे पास मैसेज के जरिए शिकायतें भी बहुत आई। एक सवाल के जवाब में कहा कि मैं पोल खोलना चाहूं तो खोल दूं। मेरे पास काम बहुत है और 24 घंटे ही है, 25 नहीं।

साधौ ने मेरे 7-8 नाम रिजेक्ट कर दिए

इसके पूर्व बुधवार सुबह गांधी भवन के सामने सभा के दौरान मंच पर कमलनाथ व पूर्व मंत्री डॉ. विजया लक्ष्मी साधौ की गुफ्तगू काफी चर्चाओं में रही। उन्होंने क्या बात की इसे लेकर कई अटकलें लगाई गई। रात को मीडिया द्वारा पार्षदों के टिकिट के मामले में उन्होंने चुटकी ली और कहा कि आज तो साधौ ने मेरे 7-8 नाम ही रिजेक्ट कर दिए। उन्होंने कहा कि मैंने कभी झूठी घोषणाएं नहीं की और न ही कोई इन्वेस्टर्स समिट की। हमारी (कांग्रेस) पहचान माफिया, मिलावट व बेरोजगारी से नहीं हुई है। मेरी आज व्यापारियों सहित अलग-अलग प्रोफेशनल्स से चर्चा हुई है। वे भाजपा की नीतियों से त्रस्त हैं।

हल्दी व अजवाइन को बताया अपनी तंदुरुस्ती का राज

कमलनाथ से जब पूछा गया कि 75 साल की उम्र में भी आप इतने फिट और एक्टिव कैसे रहते हैं, तो उन्होंने अपनी तंदुरुस्ती का राज बताते हुए कहा, मैं रोज सुबह एक चम्मच शुद्ध हल्दी का सेवन करता हूं। इसके साथ ही जेब से एक डिबिया निकालकर बताई और कहा कि इसमें अजवाइन है। यह भी मैं रोज लेता हूं। यही मेरी अच्छी सेहत का राज है।