August 10, 2022

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने बढ़ती महंगाई को बताया अस्वीकार्य, बोले- महंगाई विश्वव्यापी घटना है

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ने केंद्र सरकार के उन दावों को ध्वस्त कर दिया जिसमें कहा गया कि देश में महंगाई है ही नहीं। केंद्रीय बैंक के प्रमुख शक्तिकांत दास ने कहा है कि महंगाई अपने चरम पर है और यह अस्वीकार्य है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता व देश के पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने आरबीआई गवर्नर का बयान सामने आने के बाद केंद्र पर हमला बोला है।

पी चिदंबरम ने ट्वीट किया, ‘आरबीआई गवर्नर ने कहा कि देश में “महंगाई अस्वीकार्य रूप से उच्च स्तर पर” है। वित्त मंत्री ने कहा कि महंगाई एक विश्वव्यापी घटना है और सरकार महंगाई को नियंत्रित कर रही है।’

एक अन्य ट्वीट में चिदंबरम ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया के एनीमिया (खून की कमी) को लेकर संसद में दिए बयान पर निशाना साधा। उन्होंने लिखा, ‘स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में बताया कि छह महीने से लेकर पांच वर्ष की आयु के बच्चों में पिछले पांच वर्षों में खून की कमी 58.6 फीसदी से बढ़कर 67.1 फीसदी हो गई। एनीमिया का केवल एक कारण है- अपर्याप्त भोजन और वित्त मंत्री का कहना है कि महंगाई से लोगों को नुकसान नहीं हो रहा है! लोग- खासकर बच्चे ऊंचे दामों के कारण कम भोजन पा रहे हैं।’

बता दें कि शुक्रवार को के आरबीआई के प्रमुख शक्तिकांत दास ने कहा कि देश में मुद्रास्फीति चरम पर है। उन्होंने कहा कि यह आगे मध्यम होगी, लेकिन मौजूदा स्थिति में यह अस्वीकार्य रूप से उच्च स्तर पर है। आरबीआई गवर्नर का यह बयान तब आया है जब वह देश की मौद्रिक नीति की घोषणा कर रहे थे।