November 28, 2022

मध्यप्रदेश में 70 हजार बिजलीकर्मी हड़ताल पर, करेगें निजीकरण का विरोध

भोपाल- मध्य प्रदेश के करीब 70 हजार बिजलीकर्मी आज हड़ताल पर चले गए हैं। उन्होंने सारे कार्यों का बहिष्कार कर दिया है। इस कारण यदि कहीं लाइन फॉल्ट हुई तो उसे सुधारने वाला कोई नहीं होगा। दरअसल, बिजली कर्मी इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेंट बिल के निजीकरण का विरोध कर रहे हैं। दरअसल, सोमवार को मध्य प्रदेश के करीब 70 हजार अधिकारी-कर्मचारी हड़ताल पर चले गए। इस कारण यदि कहीं लाइन फॉल्ट हुई तो उसे सुधारने वाला कोई नहीं रहेगा। नए कनेक्शन से लेकर बिल वसूली जैसे कामों पर भी असर पड़ेगा। भोपाल में एसई, एई, जेई से लेकर निचले स्तर के करीब 3 हजार कर्मचारी हड़ताल में शामिल रहेंगे।

मध्य प्रदेश यूनाइटेड फोरम फॉर पावर इंप्लाईज एवं इंजीनियर्स के बैनरतले अधिकारी-कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। प्रदेश संयोजक वीकेएस परिहार ने बताया, सोमवार को इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेंट बिल सदन में रखा जाएगा। इसके विरोध में पूरे प्रदेश में बिजलीकर्मी हड़ताल कर रहे हैं। मप्र में भी हड़ताल परहेगी। प्रांतीय मीडिया प्रभारी लोकेंद्र श्रीवास्तव ने बताया, जलप्रदाय और सरकारी हॉस्पिटल में इमरजेंसी सेवाएं जारी रखेंगे।

इस दौरान सभी उप केंद्र/शिफ्ट ड्यूटी की सुबह 8 बजे की पारी में ऑपरेटर अपनी ड्यूटी पर आमद नहीं देंगे। जलप्रदाय और सरकारी हॉस्पिटल को छूट रहेगी। यानी, यहां पर बिजली से जुड़ी कोई परेशानी होती है तो अमला सुधार करेगा। बाकी किसी भी मामले में छूट नहीं मिलेगी।