November 29, 2022

भोपाल पहुंचे शशि थरूर, प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में बोले- मैं परिवर्तन का उम्मीदवार हूं

भोपाल- भोपाल आए कांग्रेस अध्यक्ष पद के प्रत्याशी शशि थरूर ने मल्लिकार्जुन खड़गे के साथ राजस्थान के CM अशोक गहलोत के प्रचार करने पर ऐतराज जताया। उन्होंने कहा, कांग्रेस इलेक्शन अथॉरिटी के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री को देखना चाहिए कि कहां गलत हो रहा है। इसके हिसाब से कार्रवाई करें। मल्लिकार्जुन खड़गे भी कांग्रेस अध्यक्ष पद के उम्मीदवार हैं।

सांसद थरूर ने PCC सभागार में कहा- इलेक्शन कमीशन का आदेश है कि किसी भी बड़े नेता, अध्यक्ष या चीफ मिनिस्टर को किसी उम्मीदवार का खुला सपोर्ट नहीं करना है। कांग्रेस हाईकमान और इलेक्शन कमीशन को जरूरी एक्शन लेना चाहिए। थरूर ने कहा- मैं परिवर्तन का उम्मीदवार हूं और खड़गे नेतृत्व के नेता। खड़गे वैसा परिवर्तन नहीं ला सकते जैसा मैं सोचता हूं, जो कांग्रेस और देश दोनों के लिए जरूरी है।PCC सभागार में थरूर ने ये बयान तब दिया, जब सीनियर लीडर में पूर्व मंत्री राजकुमार पटेल और विधायक लक्ष्मण सिंह ही थे। इससे पहले वे कमलनाथ से मिले। खास बात ये है कि दिग्विजय सिंह के भाई और विधायक लक्ष्मण सिंह पूरे समय शशि थरूर के साथ रहे।

शशि थरूर दोहरे व्यवहार को लेकर पहले भी नाराजगी जता चुके हैं। गुरुवार को ही उनका बयान आया था कि मैं अपने लिए खुद वोट मांग रहा हूं। अगर पार्टी के बड़े नेता 2 उम्मीदवारों के बीच ऐसे फर्क करेंगे तो इसे सही कैसे माना जा सकता है।

अब तक अपने साथ भेदभाव का आरोप लगाते आ रहे थरूर ने MP PCC के लिए कहा- मेरा स्वागत जैसा MP में हुआ, वैसा कहीं नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि हां ये सही है कि कई प्रदेश में मेरा स्वागत सही नहीं हुआ। जिस तरह का स्वागत खड़गे जी का हुआ, मेरा नहीं हुआ। लेकिन, जिस तरह का स्वागत मेरा MP में हुआ, उसके लिए मैं कमलनाथ और गोविंद सिंह का आभारी हूं।

कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठाए…

शशि थरूर ने पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच कहा कि पिछले दो चुनाव हम इसलिए हारे, क्योंकि पार्टी का नेतृत्व कमजोर था। 2014 और इसके बाद हुए 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को 19% वोट मिले। इस हालत में हम कब तक रहेंगे। अगर नेतृत्व सक्षम होता तो हम चुनाव हारते ही क्यों। इसका एक ही इलाज है कि हमें जनता को दिखाना होगा कि कांग्रेस पार्टी दोबारा आकर्षित पार्टी बन रही है। AICC के अध्यक्ष पद के लिए हो रहे चुनाव पर शशि थरूर ने कहा, आज हम कार्यकर्ताओं से पूछ रहे हैं कि आप क्या चाहते हो? हमें जवाब देने का मौका भी मिल रहा है। पार्टी के मूल्य पार्टी के सिद्धांत हैं।

पार्टी के बड़े फैसले लेने में कार्यकर्ताओं की राय ली जाए, ये सोच कांग्रेस पार्टी में नहीं है। ये पार्टी की बहुत बड़ी कमी है। कार्यकर्ताओं की हमेशा शिकायत रहती है कि कांग्रेस हाईकमान या नेतृत्व से कभी बात या मुलाकात नहीं हो पाती है। ऐसे में उन्हें स्टेक होल्डर्स होने का एहसास नहीं होता है।

सुबह 11 बजे तक 100 नेता-कार्यकर्ता भी नहीं जुटे

थरूर आज सुबह भोपाल पहुंचे। एयरपोर्ट पर पूर्व मंत्री राजकुमार पटेल ने उनका स्वागत किया। इसके बाद वे एयरपोर्ट से रवाना होकर PCC पहुंचे। यहां PCC चीफ कमलनाथ, मप्र कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी जेपी अग्रवाल के अलावा कांग्रेस के प्रमुख नेताओं से चर्चा की। इसके बाद PCC के सभागार में डेलिगेट्स के साथ बैठक की। PCC में शशि थरूर पहुंचे, लेकिन यहां पार्टी के 100 नेता और कार्यकर्ता भी नहीं जुटे। सुबह 11 बजे तक विधायक लक्ष्मण सिंह, कांग्रेस के कोषाध्यक्ष अशोक सिंह, जेपी धनोपिया, नितेंद्र सिंह राठौर ही नजर आए। भोपाल लोकल के एक भी विधायक PCC नहीं पहुंचे। उधर, इससे पहले भोपाल आ चुके मल्लिकार्जुन खड़गे के दौरे के वक्त PCC में कार्यकर्ताओं का भारी हुजूम उमड़ा था। इसी दिन कांग्रेस की ओर से प्रदेशभर की नगरीय निकाय के जीते और हारे हुए प्रत्याशियों का सम्मेलन बुलाया गया था।