November 28, 2022

अब बर्थ सर्टिफिकेट के साथ ही मिलेगा आधार नंबर, जल्द लागू होगी स्कीम

नई दिल्ली- सरकार बच्चे के जन्म के साथ ही उसे आधार नंबर देने का प्लान कर रही है। बर्थ सर्टिफिकेट के साथ ही बच्चे को आधार नंबर दिया जाएगा। इस पर 16 राज्यों में ट्रायल चल रहा है। जल्द ही पूरे देश में इसे लागू कर दिया जाएगा। आधार नंबर मिलने के बाद बच्चे की 5 साल और 15 साल की उम्र होने पर उसका बायोमैट्रिक डेटा अपडेट कराना होगा।

5 साल से कम उम्र में नहीं होता बायोमैट्रिक्स
5 साल से कम उम्र के बच्चों का बायोमैट्रिक्स नहीं लिया जा सकता। इस कारण उनके UID को उनके माता-पिता की UID से जोड़ा जाता है। इस कारण बच्चे के 5 और 15 साल के हो जाने पर बायोमैट्रिक अपडेट की जरूरत होती है।

अभी 16 राज्यों में आधार लिंक्ड बर्थ रजिस्ट्रेशन स्कीम चल रही है। इसे एक साल पहले शुरू किया गया था, जिसमें समय के साथ दूसरे राज्य जुड़ते गए। UDAI को उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों में सभी राज्य में यह सुविधा उपलब्ध होगी।

चार राज्यों की काफी आबादी आधार से दूर
अधिकारियों ने बताया कि अब तक 134 करोड़ आधार कार्ड जारी किए जा चुके हैं। असम और मेघालय वे राज्य हैं, जहां पूरी आबादी को अभी तक यूनीक ID नहीं मिला है। लद्दाख और नागालैंड के भी दूरदराज के इलाकों में आबादी पूरी तरह से एनरोल नहीं हुई है। हम देश के इन हिस्सों में जल्द से जल्द पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं।

2021 में मिली 4 करोड़ नए आधार बनाने की रिक्वेस्ट
उन्होंने बताया कि पिछले साल 20 करोड़ रिक्वेस्ट मिलीं। इनमें से सिर्फ चार करोड़ नए आधार के लिए थीं, बाकी की रिक्वेस्ट अपडेशन के लिए थीं। इसके बाद यूनीक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने आधार धारकों की अपडेटेड जानकारी मांगने का फैसला किया।

अधिकारियों ने इस हफ्ते की शुरुआत में लोगों से आग्रह किया कि अगर उनका आधार कार्ड 10 साल से ज्यादा पुराना है तो वह उसे अपडेट करें। उनका कहना है कि पिछले कई सालों में कई आधार धारक नई जगह शिफ्ट हो गए हैं, तो कई लोगों ने अपना मोबाइल नंबर बदल लिया है। इस कारण सही जानकारी होनी बहुत जरूरी है।

ऐसे करें आधार में जानकारी अपडेट
एमआधार ऐप के जरिए अपडेशन ऑनलाइन किया जा सकता है या फिर आधार सेंटर्स पर जाकर भी किया जा सकता है। ऑनलाइन के लिए 25 रुपए और केंद्र पर जाकर जानकारी अपडेट करने के लिए ​​​​ 50 रुपए की फीस देनी होगी। इसके अलावा राशन की दुकानों पर भी शिविर लगाए जाएंगे। इसके लिए राज्य स्तर पर तैयारी की जा रही है।

आधार कार्ड क्या है?
आधार कार्ड एक जरूरी दस्तावेज है। इसमें एक 12-यूनीक आईडेंटिफिकेशन नंबर है। सरकारी योजना का लाभ लेने से लेकर बच्चे के एडमिशन तक के लिए आधार नंबर मांगा जाता है। आधार कार्ड में आपके नाम, पता और फोन नंबर से लेकर फिंगरप्रिंट तक की जानकारियां रहती हैं। यह सुविधा जनवरी, 2009 में शुरू की गई थी, जब UIDAI की स्थापना हुई थी।