December 10, 2022

कांग्रेस अध्‍यक्ष चुनाव में 96 फीसदी हुआ मतदान, 9900 डेलीगेट ने की वोटिंग

नई दिल्ली- कांग्रेस अध्‍यक्ष चुनाव के लिए मतदान समाप्त हो गयी है। ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के मुख्यालय के साथ-साथ 65 जगहों पर मतदान केंद्र बनाया गया था, जहां हजारों डेलिगेट्स ने मतदान किया। इसी के साथ अध्यक्ष पद के दोनों उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर की किस्मत बैलेट के बक्से में कैद हो गई है। बुधवार को बैलेट बॉक्स से कांग्रेस को नया हाईकमान मिलेगा।

कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में कुल लगभग 9900 डेलीगेट (निर्वाचक मंडल के सदस्यों) में से करीब 9500 ने मतदान किया। करीब 96 प्रतिशत मतदान हुआ। वहीं मध्यप्रदेश में कुल 502 वोट में से 464 वोटर्स ने पीसीसी मुख्यालय में अपने मताधिकार का प्रयोग किया। जबकि 12 डेलीगेट्स ने स्टेट के बाहर मतदान किया। कुल 26 डेलीगेट्स वोटिंग से अनुपस्थित रहे। अब 19 तारीख अर्थात बुधवार को AICC मुख्यालय में मतों की गणना की जाएगी।

मधुसूदन मिस्त्री ने कहा कि कर्नाटक में बेल्लारी स्थित ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के विश्राम शिविर के मतदान केंद्र में राहुल गांधी समेत करीब 50 लोगों ने वोट डाला। कांग्रेस मुख्यालय में मतदान के बाद जयराम रमेश ने कहा, ‘यह ऐतिहासिक मौका है। हमारे यहां स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी ढंग से चुनाव हुआ है। कांग्रेस एकमात्र राजनीतिक दल है, जहां अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होता है। हमारे यहां टीएन शेषन की तरह केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री हैं। किसी दूसरी पार्टी में चुनाव नहीं होता।’

माना जा रहा है कांग्रेस पार्टी के नए अध्यक्ष के समक्ष काफी चुनौतियां होंगी। हिमाचल और गुजरात विधानसभा चुनाव काफी नजदीक है, ऐसे में पार्टी के प्रदर्शन की जिम्मेदारी भी नए अध्यक्ष की ही होगी। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने चुनाव के बाद कहा कि, ‘नए अध्यक्ष को गांधी परिवार के विचारों को सुनना चाहिए। नए अध्यक्ष के चुनाव से गांधी परिवार की आवाज कम नहीं होगी।’ हालांकि, उन्होंने गांधी परिवार द्वारा रिमोट से अध्यक्ष को कंट्रोल करने की बात को भी खारिज कर दिया।

बता दें कि कांग्रेस पार्टी के 137 साल के इतिहास में छठी बार अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुआ है। पार्टी महासचिव जयराम रमेश के मुताबिक, अध्यक्ष पद के लिए अब तक 1939, 1950, 1977, 1997 और 2000 में चुनाव हुए हैं। पूरे 22 वर्षों के बाद अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हो रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए पिछली बार चुनाव 2000 में हुआ था, जब जितेंद्र प्रसाद को सोनिया गांधी के हाथों जबरदस्त हार का सामना करना पड़ा था।