November 29, 2022

दमोह में हुई मौत पर एमपी में सियासत गरमाई, कमलनाथ के निशाने पर शिवराज सरकार

भोपाल- मध्य प्रदेश के दमोह में गोली मारकर की गई दलित परिवार के तीन सदस्यों की मौत (Damoh Triple Murder) के मामले में एमपी की राजनीति गर्मा गई है. मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ (Madhya Pradesh Congress Chief Kamal Nath) ने ट्वीट कर प्रदेश की शिवराज सरकार (Shivraj Singh Chouhan government) पर निशाना साधा है. कमलनाथ ने कहा कि मध्य प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गई है. कमलनाथ ने कहा कि इस मामले में राज्य सरकार को जवाब देना ही होगा,

मध्य प्रदेश के दमोह जिले के देवरान गांव में हुई गोलीबारी की घटना में एक दलित परिवार के तीन लोगों की हत्या पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खडे किए हैं. पीसीसी चीफ कमलनाथ ने मध्य प्रदेश कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के अध्यक्ष प्रदीप अहिरवार को मौके पर जाकर सारी वस्तु स्थिति से अवगत कराने, पीड़ित परिवार से मिलने और घटना की पूरी रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस कमेटी को देने के निर्देश दिए हैं.

उच्च स्तरीय जांच की मांग-कमलनाथ
पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने ट्वीट के जरिए दुख जताया. उन्होंने कहा कि मैं मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार से इस घटना की उच्च स्तरीय जांच की मांग करता हूं. जांच के बाद इस घटना के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो. सरकार पीड़ित परिवार की हर संभव मदद करे और पीड़ित परिवार के बाकी सदस्यों को पूरी सुरक्षा प्रदान करे.

अंतर्मन को झकझोर दिया-केंद्रीय मंत्री
इधर केन्द्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने भी कहा कि, दमोह जिले के देवराज गांव में हत्याओं ने अंतर्मन को झकझोर दिया है. यह वीभत्स और दुखद है. मृतकों के परिजनों को ईश्वर संबल प्रदान करें, मैं संयम का आग्रह करता हूं. ऐसी घटनाओं के कारकों और कारणों पर गंभीर विमर्श की जरूरत महसूस करता हूं ताकि शांति और सौहार्द का तानाबाना बना रहे.

बसपा प्रमुख मायावती ने उठाए सवाल
इधर बसपा प्रमुख मायावती ने भी मध्य प्रदेश के दमोह जिले में हुई घटना को लेकर ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा कि मध्य प्रदेश में भी दलित व आदिवासी समाज पर अत्याचार लगातारी जारी है. दमोह जिले के देवरान में दबंगों ने दलित परिवार पर अंधाधुंध फायरिंग की और फिर पत्थर से कुचलकर तीन लोगों की हत्या कर दी बाकी घायलों ने भागकर जान बचाई. इस ह्रदय विदारक घटना की जितनी निंदा की जाए वह कम है.

मायावती ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा कि यह अंधकार युग जैसी ताजा घटना मध्य प्रदेश की बीजेपी सरकार में कानून व्यवस्था के साथ-साथ गरीबों, दलितों, आदिवासियों व महिलाओं आदि की सुरक्षा के मामले में सरकारी विफलता की पोल खोलती हैं. सरकार ऐसे आपराधिक तत्वों के खिलाफ नरमी नहीं बल्कि सख्त कार्रवाई करें, बीएसपी की यह मांग है.