April 21, 2024

पीएम ने अक्टूबर में वर्चुअली किया था उद्घाटन:

इंदौर – कनाड़िया स्थित गुलमर्ग परिसर में तैयार 128 करोड़ रु. के विश्व स्तरीय लाइट हाउस प्रोजेक्ट में दो माह में ही जगह-जगह पानी का रिसाव हो रहा है। प्री फेब्रिकेटेड सैंडविच पैनल तकनीक से यहां 1024 फ्लैट्स तैयार किए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अक्टूबर 2023 में इसका वर्चुअली उद्घाटन किया था। आठ मंजिला बिल्डिंग के हर फ्लोर पर वाटर लीकेज की समस्या है। प्रोजेक्ट के निर्माण में भी दोगुना समय लगा था। 15 महीने का प्रोजेक्ट 34 म​हीने में पूरा हुआ था।
रहवासियों का कहना है कि पजेशन के बाद से ही बाथरूम की छत से पानी टपक रहा है, वहीं फाल्स सीलिंग भी टूट-टूटकर गिर रही हैं। विशेषज्ञों ने बताया कि वाटर प्रूफिंग ठीक से नहीं होने और खराब प्लंबिंग के कारण इस तरह की समस्या हो सकती है। निगमायुक्त हर्षिका सिंह ने कहा, यह गंभीर मामला है। कंस्ट्रक्शन कंपनी से बात की है। जल्द समाधान निकालेंगे।

छत से धार बह रही, फाॅल्स सीलिंग भी टूटकर गिर रही

ए-1 ब्लॉक के फ्लैट नं. 403 में रहने वाले दिनेश अग्रवाल ने बताया, बाथरूम की छत से पानी की मोटी धार बह रही है। फ्लैट नं. 407 की प्रियंका यादव कहती हैं, टाइल्स से पानी निकलने के कारण हर ओर से बदबू आने लगी है। रहवासी सम्राट ने बताया नीचे लिफ्ट के पास फाल्स सीलिंग टूट-टूटकर गिर रही है।

साइट इंचार्ज बोले- तकनीक नई है, हम भी इसे समझ रहे हैं

ग्लोबल हाउसिंग टेक्नोलॉजी चैलेंज के तहत देश के छह शहरों (इंदौर, राजकोट, चेन्नई, अगरतला, रांची और लखनऊ) में इस तकनीक से ये इमारतें बनाई जा रही हैं। इंदौर के साइट इंचार्ज निखिल नागर ने बताया, यह तकनीक भारत में पहली बार इस्तेमाल की गई है। हम भी इसे समझ रहे हैं। जहां-जहां लीकेज हैं वहां रिपेयरिंग करवा रहे हैं।

300 से अधिक परिवार रह रहे हैं

इस खास जापानी तकनीक से बने एक फ्लैट की कीमत 12.50 लाख रुपए है। शासन ने इस पर 6.50 लाख की सब्सिडी दी है। यहां 470 परिवारों को पजेशन मिला है। 300 से अधिक परिवार रह भी रहे हैं। शिकायत के बाद कुछ घरों में केमिकल लगाकर लीकेज बंद करने की कोशिश भी की, लेकिन कोई सुधार नहीं हो सका।

About Author