April 21, 2024

रोजगार की मांग के लिए जनसेवामित्र का धरना प्रदर्शन

भोपाल – जनसेवा मित्रों ने अपनी सेवाएं वापस लिए जाने की मांग को लेकर सोमवार को भी भोपाल में धरना प्रदर्शन किया। जनसेवा मित्र अटल बिहारी वाजपेई सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान पहुंचे और सेवा में वापस लेने की मांग की। उन्होंने सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया है। प्रदर्शन का संचालन कर रहे, उज्जैन के मुख्यमंत्री जनसेवा मित्र ने बताया कि तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 9,300 जनसेवामित्रों को रोजगार दिया था, जिनकी सेवा 31 जनवरी के बाद से समाप्त कर दी गई। उन्होंने अपनी मांगे पूरी न होने पर संस्थान में आत्महत्या की भी धमकी दी है।

सरकार और जनता को जोड़ने का काम करते थे सेवामित्र

मामले में लोकेन्द्र सिंह ने बताया कि शिवराज सिंह ने मुख्यमंत्री रहते हुए चीफ मिनिस्टर यूथ इंटर्नशिप प्रोग्राम के तहत जनसेवा मित्रों की भर्ती की थी। सेवा मित्रों का मुख्य काम प्रदेश की हर पंचायत में नियुक्त होकर सरकार व जनता के बीच पुल बनना और योजनाओं का लाभ दिलाना था। शहर की अटल बिहारी सुशासन संस्था यह प्रोग्राम संचालित करती थी।

पहले भी 3 बार पहले धरना प्रदर्शन कर चुके हैं जनसेवामित्र

सेवामित्रों के मुताबिक जब उन्होंने लाड़ली बहना योजना को प्रभावी बनाया तब तत्कालीन सीएम शिवराज सिंह चौहान ने उनकी सेवाओं को स्थायी रोजगार देने का वादा किया था। लेकिन मुख्यमंत्री बदलने के बाद जनवरी में उनकी सेवा समाप्त कर दी गई है। संबंधित विभाग की ओर से इस मामले में कोई स्पष्टीकरण नहीं मिल रहा है।

About Author