November 28, 2022

विधानसभा का हंगामा, कांग्रेस MLA बोले- मैं डैम में हुआ घोटाला बताने गया तो पुलिस ने झूमा-झटकी की

भोपाल- मध्यप्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र तीन दिन भी नहीं चल सका। विधायकों ने एक-दूसरे पर मारपीट और अभद्रता के आरोप लगाए। विपक्ष अपने आदिवासी विधायक पांचीलाल मेड़ा के अपमान काे मुद्दा बनाकर बीजेपी को घेरने में जुटा रहा। वहीं, सत्ता पक्ष ने कांग्रेस विधायकों पर दुर्व्यवहार का आरोप लगाया। विधानसभा अध्यक्ष ने भी कांग्रेस विधायक पर ही सवाल उठाया।

बीजेपी विधायक ने मुझे मारा: पांचीलाल मेड़ा
मेरे क्षेत्र धार जिले की धरमपुरी विधानसभा में कारम डैम में 304 करोड़ रुपए का घोटाला किया गया। डैम के इलाके से आदिवासी भाइयों को जंगल में पटक दिया गया। फसलें बर्बाद हो गईं। घर टूट गए। मवेशी मर गए। इन्हीं बातों को लेकर मैं बुधवार को विधानसभा जा रहा था। उस समय पुलिस वालों ने मुझे रोका। गेट पर झूमा-झटकी की। विधानसभा में बात नहीं सुनी गई तो दूसरे दिन गुरुवार को फिर आसंदी से हाथ जोड़कर बार-बार एक घंटे तक निवेदन करता रहा, लेकिन नहीं सुना गया।

सदन में जब मैं गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को पुलिस द्वारा किए दुर्व्यवहार से अवगत करा रहा था, तभी विधायक उमाकांत शर्मा पीछे की सीट से आए और धक्का-मुक्की करने लगे। क्या मैं अपने क्षेत्र की आवाज सदन में नहीं उठा सकता? विधानसभा अध्यक्ष ने मेरी बात नहीं सुनी। उमाकांत शर्मा ने मेरे साथ मारपीट की। मेरे कपड़े फाड़े गए।

आदिवासी अपमान और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस ने घेरा
विधानसभा सत्र के दौरान बुधवार को कथित पोषण आहार घोटाले की तख्तियां लेकर कांग्रेस विधायक विधानसभा के गेट नंबर तीन से अंदर आने की कोशिश कर रहे थे, तभी गेट पर मौजूद पुलिस ने विधायकों से तख्तियां छीन लीं। इसी दौरान पुलिस के साथ कांग्रेस विधायकों की झूमा-झटकी हुई। इसके बाद कांग्रेस विधायक पांचीलाल मेड़ा और मनोज चावला ने पुलिस पर धक्का-मुक्की और मारपीट करने के आरोप लगाए। गुरुवार को भी इसी मुद्दे पर बहस हुई।