November 28, 2022

कमलनाथ के विजन का क्रेडिट ले रही शिवराज सरकार, पुराने ट्वीट्स से खुली झूठ की पोल

भोपाल- उज्जैन में महाकाल लोक का आज लोकार्पण होने जा रहा है। पीएम मोदी शाम पांच बजे लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उज्जैन पहुंचेंगे। महाकाल लोक निर्माण कार्य को लेकर शिवराज सरकार जमकर अपनी पीठ थपथपा रही है। लेकिन सीएम के ऑफिशियल हैंडल से किए गए पुराने ट्वीट्स ने शिवराज सरकार के क्रेडिटखोरी की पोल खोल दी है।

दरअसल, मुख्यमंत्री के ऑफिसियल ट्वीटर हैंडल से 17 अगस्त 2019 को एक ट्वीट किया गया था जिसमें कमलनाथ सरकार द्वारा महाकाल प्रोजेक्ट के लिये 300 करोड़ रुपए आवंटित करने की बात की गई है।

मुख्यमंत्री के ऑफिसियल फ़ेसबुक पर भी उसी दिन यानी 17 अगस्त 2019 को एक विस्तृत पोस्ट लिखी गई जिसमें कमलनाथ जी द्वारा 300 करोड़ की योजना शुरू करने की बात और पूरी योजना का विस्तार से वर्णन व बैठक के फ़ोटो भी हैं।

जनसंपर्क उज्जैन के ऑफिसियल ट्विटर हैंडल से 19 अगस्त 2019 को ट्वीट किया गया था जिसमें कमलनाथ सरकार द्वारा महाकाल मंदिर के सुविधा विस्तार की और सौंदर्यीकरण की बात लिखी गई है।

जनसंपर्क मध्यप्रदेश के हैंडल से भी इसी तरह के पोस्ट किए गए है। ये सभी हैंडल वेरीफाईड हैं और सरकारी हैं। खबर लिखे जाने तक ये पोस्ट डिलीट नहीं किए गए हैं। यानी स्पष्ट है कि कमलनाथ सरकार ने महाकाल लोक निर्माण की पहल की थी जो अब जाकर पूरा हुआ है। चूंकि, अब राज्य में बीजेपी की सरकार है इसलिए शिवराज सरकार इसका क्रेडिट लेने में कोई कसर नहीं छोड़ रही।

लोकार्पण कार्यक्रम में स्वयं प्रधानमंत्री मोदी भी शामिल हो रहे हैं। कार्यक्रम का बेहद भव्य आयोजन किया गया है। इतना ही नहीं राज्य सरकार के जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रदेशभर के पत्रकारों को सरकारी खर्चे पर उज्जैन भेजा गया है, ताकि मीडिया कवरेज में कोई कमी नहीं हो।

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने इन ट्वीट्स को शेयर कर राज्य सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस ने लिखा कि, ‘शिवराज के झूठ का पर्दाफ़ाश। कमलनाथ ने काम किया, शिवराज रहे श्रेय लूट, बाबा महाकाल के सामने, परोस रहे सफेद झूठ। शर्म करो शिवराज।’