November 29, 2022

एमपी में लगातार बदले जा रहे नाम, कांग्रेस ने भोपाल सांसद पर गंभीर लगाए आरोप

भोपाल- मध्य प्रदेश में एमबीबीएस (MBBS) की अंग्रेजी से हिंदी में पढ़ाई शुरू होने के बाद से नाम बदलने को लेकर सियासत गर्म हो गई है. लगातार नाम परिवर्तन का दौर जारी है. बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने लाडली लक्ष्मी बाटिक और लाडली लक्ष्मी पथ के नाम से रोड और पार्कों के नाम परिवर्तन कर दिए. इसके बाद से आज गुरुवार को राजधानी भोपाल की तीन जगहों का नाम बदला गया है.

इसे लेकर गुरुवार को नगर निगम परिषद की बैठक में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर दिया गया. परिषद की बैठक में भोपाल के हलालपुर का नाम हनुमानगढ़ी और लाल घाटी का नाम बदल कर महेंद्र नारायण दास जी महाराज सर्वेश्वर चौराहा किया गया. सदन में इस प्रस्ताव के पारित होने पर सभी सदस्यों ने तालियां बजाकर स्वागत किया.

क्या कहा साध्वी प्रज्ञा ने?

वहीं बैठक में भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भी पहुंच गई थी उनके ही सामने प्रस्ताव को सर्वसहमति से पारित किया गया. सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि इन स्थानों का मुगल काल का रक्तरंजित इतिहास हमें पीड़ा देता है. भोपाल बहुत सुंदर ताल-तलैयों का शहर है इसलिए भोपाल को अच्छा सुनना और अच्छा रखना हम सबकी जिम्मेदारी है इतिहास में नृशंस हत्या हुई.

कमलापति के 14 वर्ष के बेटे और कई सैनिक, नागरिक शहीद हुए इस वजह से यहां की रक्तरंजित भूमि लाल हो गई. इसलिए इस जगह का नाम लालघाटी रखा गया था. इसी इलाके में प्राचीन गुफा मंदिर है वहां के महंत के नाम पर अब यहां का नाम रखा गया है. नारायण दास महंत ने भोपाल के विलनीकरण के लिए व्रत रखा था अब उनके नाम से इलाके को पहचाना जाएगा. हलालपुरा बस स्टैंड को हनुमान गढ़ी और हलालपुरा बस्ती को हनुमान गढ़ नाम से जाना जाएगा.

भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के हलालपुरा बस्ती हलालपुरा बस स्टैंड और लालघाटी के नाम बदलने के प्रस्ताव पर राजनीति गरमा गई. कांग्रेस ने आड़े हाथो लेते हुए कहा सांसद कभी विकास की बात नहीं करती यह प्रस्ताव भोपाल को बांटने वाला है. भोपाल ऐसा शहर जहां आधी आबादी हिंदू और आधी मुसलमान है. भोपाल की गंगा जमुना तहजीब को खराब करने का प्रयास किया जा रहा है. भोपाल सांसद हमेशा देश और समाज को बांटने की राजनीति करती हैं.

कांग्रेस ने साध्वी प्रज्ञा से सवाल किया

मप्र कांग्रेस मीडिया विभाग की उपाध्यक्ष संगीता शर्मा ने कहा कि भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने नगर निगम भोपाल को एक प्रस्ताव भेजा था. जिसमे भोपाल के तीन स्थानों के नाम परिवर्तित करने का प्रस्ताव भेजा था जो प्रस्ताव नगर निगम भोपाल द्वारा पारित किया गया है. कांग्रेस नेता संगीता शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने अपने बयान में बताया कि जो स्थान कलंकित हो जाते हैं, रक्त रंजित हो जाते हैं ऐसे स्थानों के नाम बदलना पड़ता है.

भोपाल की सांसद प्रज्ञा जी से यह पूछना चाहती हूं कि मध्य प्रदेश भी 18 सालों से भाजपा शासन काल में कलंकित हो चुका है, रक्त रंजित हो चुका है. नाबालिक बच्चियों के साथ रेप, गैंगरेप और उसके बाद हत्या के मामले घटित हो रहे हैं. साथ ही दलितों, आदिवासियों के साथ आये दिन अन्याय, अत्याचार, हत्या के मामले भी लगातार बढ़ रहे हैं.

प्रतिवर्ष एनसीआरबी के आंकड़े दर्शाते हैं कि मध्य प्रदेश महिलाओं के साथ दुष्कर्म एवं अपराधों में देश में अव्वल नंबर पर है. ऐसे में क्या साध्वी प्रज्ञा मध्य प्रदेश का नाम बदलने के लिए भी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और संसद में मध्य प्रदेश का नाम बदलने का प्रस्ताव भेजेंगी?