October 4, 2022

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा सिंधिया के पार्टी छोड़ने से ग्वालियर में कांग्रेस जीवित हो गई है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने रविवार को कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के पार्टी छोड़कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में जाने के बाद ग्वालियर में कांग्रेस जीवित हो गई है। 

सिंह ने यहां वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में भाजपा के आयोजन के एक दिन बाद मीडिया से कहा कि सिंधिया के जाने के बाद ग्वालियर अंचल में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों में नयी ऊर्जा और जान आ गई है। हम सिंधिया की चुनौती स्वीकार करते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कार्यकर्ता और जनता तय कर ले, तो कांग्रेस को कोई पराजित नहीं कर सकता है।

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष बृजमोहन परिहार की श्रद्धांजलि सभा में शामिल होने आए सिंह ने मीडिया के सवालों के जवाब में कहा कि वे लोकतांत्रिक व्यवस्था में विश्वास की राजनीति पसंद करते हैं। उन्होंने भाजपा के शनिवार को ग्वालियर में आयोजित सदस्यता कार्यक्रम से संबंधित सवालों के जवाब में कहा कि इसमें बड़ी बड़ी बातें की जा रही थीं, लेकिन ऐसी बातें करने वाले तो राजनीति में अपनी विश्वसनीयता खो चुके हैं और उनके भाजपा में जाने के बाद ग्वालियर में कांग्रेस जीवित हो गई है।

पंद्रह माह की कांग्रेस सरकार में दो मुख्यमंत्री’होने संबंधी आरोपों के बारे में पूर्व मुख्यमंत्री सिंह ने कहा कि अब भाजपा में ‘चार मुख्यमंत्री’ हैं। एक नरोत्तम मिश्रा तो शनिवार को यहां आए नहीं। 

एक अन्य सवाल के जवाब में सिंह ने इससे इंकार किया कि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिला था। उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार ने माफियाओं, मिलावटखोरों और अन्य घोटालेबाजों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की थी। ऐसे लोगों ने ही भय खाकर तत्कालीन सरकार को गिरा दिया। 

सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि कल यहां भाजपा के सदस्यता अभियान को आयोजित करने की अनुमति प्रदान कर दी गई, जबकि कांग्रेस के साथ भेदभाव किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब श्रीगणेश पंडालों और धार्मिक आयोजनों की अनुमति नहीं है, तो सदस्यता अभियान को अनुमति क्यों दी गई।

राज्य में 27 सीटों पर विधानसभा उपचुनावों के लिए पार्टी प्रत्याशी के चयन के संबंध में पूछे जाने पर सिंह ने कहा कि चयन प्रक्रिया चल रही है। प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ सभी कार्यकतार्ओं से चर्चा कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि पहले चुनाव आयोग को भी तय कर लेना चाहिए कि उपचुनाव कब होंगे, कांग्रेस उम्मीदवार तो तय हो जाएंगे। 

पूर्व मुख्यमंत्री ने मीडिया के समक्ष सिंधिया के कांग्रेस में रहते हुए भाजपा के खिलाफ दिए गए बयानों की वीडियो रिकार्डिंग भी सुनवाई।